प्रेस रिलीज़

Date
Month
Year
District
Place
Photo Category


Previous12345...1718Next
हमर छत्तीसगढ़ में 1.55 लाख प्रतिनिधि आए अध्ययन भ्रमण पर

हमर छत्तीसगढ़ में 1.55 लाख प्रतिनिधि आए अध्ययन भ्रमण पर

राज्य शासन की महत्वाकांक्षी योजना हमर छत्तीसगढ़ के तहत 30 जून 2018 तक करीब एक लाख 55 हजार निर्वाचित जनप्रतिनिधियों और महिला स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों ने राजधानी का अध्ययन भ्रमण किया। योजना के अंतर्गत ग्राम पंचायतों और नगर पंचायतों के लगभग एक लाख 38 हजार, सहकारी समितियों के सात हजार और महिला स्वसहायता समूहों के दस हजार से अधिक पदाधिकारी अध्ययन प्रवास पर रायपुर पहुंचे। इनमें प्रदेश के सभी 27 जिलों और 144 विकासखंडों के प्रतिनिधि शामिल हैं। त्रिस्तरीय पंचायतीराज प्रतिनिधियों के सशक्तिकरण और उनका अनुभव संसार समृद्ध करने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा 01 जुलाई 2016 को इस योजना की शुरुआत की गई थी। बाद में 02 अक्टूबर 2016 को सहकारिता के निर्वाचित प्रतिनिधियों और 16 मई 2018 से राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत काम कर रही महिला स्वसहायता समूहों की पदाधिकारियों को भी हमर छत्तीसगढ़ योजना से जोड़ा गया। बीते दो सालों में योजना की उपयोगिता को देखते हुए सरकार ने इसकी अवधि तीन माह बढ़ा दी है। आगामी 10 जुलाई से 30 सितम्बर तक संयुक्त वन प्रबंधन समितियों के प्रतिनिधि अध्ययन भ्रमण पर आएंगे। इस दौरान प्रदेश के 32 वनमंडलों में गठित करीब सात हजार 900 समितियों के लगभग 16 हजार प्रतिनिधि अध्ययन प्रवास पर आएंगे। दो दिनों के अध्ययन दौरे के दौरान जनप्रतिनिधियों और पदाधिकारियों को नया रायपुर में जंगल सफारी, मंत्रालय (महानदी भवन), फाइव-डी इमर्सिव डोम, शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम और पुरखौती मुक्तांगन दिखाया जाता है। वहीं रायपुर में उन्हें छत्तीसगढ़ विधानसभा, साइंस सेंटर, इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय और स्वामी विवेकानंद विमानतल का भ्रमण कराया जाता है। नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान को योजना के आवासीय परिसर के रूप में विकसित किया गया है। यहां एक साथ करीब 750 प्रतिनिधियों के आवास एवं भोजन की व्यवस्था है। अध्ययन भ्रमण के साथ-साथ प्रतिनिधियों को कई विभागों की योजनाओं की जानकारी दी जाती है। इस दौरान प्रदेश के अलग-अलग क्षेत्रों से आए प्रतिनिधि शासकीय योजनाओं के क्रियान्वयन और अपने कार्यों के अनुभव एक-दूसरे से साझा करते हैं। ग्रामसभा, स्वच्छता, विधिक सहायता एवं डिजिटल लेन-देन के बारे में भी उन्हें जागरूक किया जाता है। अध्ययन प्रवास पर आने वाले सभी प्रतिनिधियों को आवासीय परिसर में योगाभ्यास भी कराया जाता है। छायाचित्र प्रदर्शनी, होलोग्राफिक थिएटर में पंचायत प्रतिनिधियों के लिए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का संदेश रमन के बात हमर मन के साथ, लाइट एंड साउंड शो एवं सांस्कृतिक प्रस्तुतियों के जरिए जनप्रतिनिधियों एवं पदाधिकारियों को पिछले 15 वर्षों में छत्तीसगढ़ में हुए विकास और राज्य की उपलब्धियों से रू-ब-रू कराया जाता है।

हमर छत्तीसगढ़ योजना का विस्तार  संयुक्त वन प्रबंधन समितियों के सदस्य भी आएंगे

हमर छत्तीसगढ़ योजना का विस्तार संयुक्त वन प्रबंधन समितियों के सदस्य भी आएंगे

राजधानी के अध्ययन भ्रमण पर भ्रमण की तैयारी के लिए अपर मुख्य सचिव ने कलेक्टरों को जारी किया परिपत्र पंचायत प्रतिनिधियों, सहकारिता प्रतिनिधियों और स्वसहायता समूह की महिलाओं के बाद अब संयुक्त वन प्रबंधन समितियों के सदस्य भी हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत राजधानी के अध्ययन भ्रमण पर आएंगे। योजना के तहत प्रदेश के सभी 32 वनमंडलों में गठित सात हजार 887 संयुक्त वन प्रबंधन समितियों के प्रतिनिधि दो दिवसीय अध्ययन प्रवास पर रायपुर आएंगे। इस दौरान वे रायपुर और नया रायपुर के अनेक स्थानों का भ्रमण कर छत्तीसगढ़ में पिछले डेढ़ दशकों में हुए विकास और राज्य की उपलब्धियों से रू-ब-रू होंगे। संयुक्त वन प्रबंधन समितियों के सदस्यों के अध्ययन दौरे की तैयारी के लिए पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री आर.पी. मंडल ने सभी कलेक्टरों को परिपत्र जारी किया है। उल्लेखनीय है कि हमर छत्तीसगढ़ योजना की उपयोगिता को देखते हुए अभी हाल ही में 26 जून को मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में योजना की अवधि तीन महीने बढ़ाने और संयुक्त वन प्रबंधन समितियों के सदस्यों को इससे जोड़ने का निर्णय लिया गया था। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा आज यहां मंत्रालय से कलेक्टरों को जारी परिपत्र के अनुसार संयुक्त वन प्रबंधन समितियों के प्रतिनिधि अगले तीन महीनों तक लगभग 650-650 की संख्या में दो दिनों के अध्ययन भ्रमण पर राजधानी आएंगे। सितम्बर 2018 तक लगभग 16 हजार प्रतिनिधियों को भ्रमण कराने का लक्ष्य है। अध्ययन प्रवास पर आने वाली हर समिति को अपने इलाके से स्थानीय प्रजाति का एक फलदार पौधा लाने कहा गया है जिसे नया रायपुर में रोपित किया जाएगा। परिपत्र में अपर मुख्य सचिव श्री आर.पी. मंडल ने रायपुर, दुर्ग एवं बिलासपुर संभाग के प्रतिनिधियों को भ्रमण के पहले दिन सवेरे नौ बजे के पूर्व हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान पहुंचने के लिए निर्देशित किया है। बस्तर एवं सरगुजा संभाग के प्रतिनिधियों को अध्ययन भ्रमण के एक दिन पहले रात नौ बजे के पूर्व आवासीय परिसर पहुंचने कहा गया है। श्री मंडल ने योजना से जुड़े पंचायत एवं वन विभाग के सभी अधिकारियों को भ्रमण के निर्धारित कार्यक्रमानुसार सभी तैयारियां सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। संयुक्त वन प्रबंधन समितियों के सदस्यों के अध्ययन दौरे की शुरूआत आगामी 10 जुलाई से होगी। इस दिन बस्तर, बीजापुर, सरगुजा, जशपुर और मरवाही वनमंडल के प्रतिनिधि अध्ययन प्रवास पर राजधानी आएंगे।

स्वसहायता समूह की महिलाओं ने देखा रायपुर और नया रायपुर

स्वसहायता समूह की महिलाओं ने देखा रायपुर और नया रायपुर

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (बिहान) के तहत गांवों में काम रहीं महिला स्वसहायता समूहों की 706 पदाधिकारी इन दिनों राजधानी के अध्ययन भ्रमण पर हैं। यह महिलाएं राज्य शासन की हमर छत्तीसगढ़ योजना के अंतर्गत दो दिनों की अध्ययन यात्रा पर यहां पहुंची हैं। प्रवास के दूसरे दिन आज उन्होंने छत्तीसगढ़ विधानसभा, साइंस सेंटर और इदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय देखा। हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर, नया रायपुर के होटल प्रबंधन संस्थान में स्वसहायता समूह की महिलाओं को विभिन्न शासकीय योजनाओं की जानकारी दी गई। अध्ययन प्रवास के पहले दिन देर शाम उन्होंने पुरखौती मुक्तांगन में लाइट एंड साउंड शो भी देखा। इसमें उन्हें छत्तीसगढ़ के पृथक राज्य बनने से लेकर अब तक के विकास की झलक दिखाई गई। साथ ही प्रदेश के पौराणिक, ऐतिहासिक, पुरातात्विक और सांस्कृतिक पहलुओं की भी जानकारी दी गई। शो में उन्हें सरकार की अनेक योजनाओं के बारे में भी बताया गया। स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों ने अध्ययन भ्रमण के पहले दिन नया रायपुर में जंगल सफारी, मंत्रालय, शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम और पुरखौती मुक्तांगन देखा। विभिन्न स्वसहायता समूहों से राजनांदगांव जिले की 192, गरियाबंद की 134, दुर्ग की 111, बलरामपुर-रामानुजगंज की 94, सूरजपुर की 93 और कोरिया जिले की 82 पदाधिकारी अध्ययन दौरे पर रायपुर आईं हैं।

राज्य के विकास के सफर से रू-ब-रू हुईं स्वसहायता समूह की महिलाएं  छह जिलों की 675 महिलाएं राजधानी के अध्ययन प्रवास पर

राज्य के विकास के सफर से रू-ब-रू हुईं स्वसहायता समूह की महिलाएं छह जिलों की 675 महिलाएं राजधानी के अध्ययन प्रवास पर

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन भ्रमण पर आईं कोरिया, बलरामपुर-रामानुजगंज, सूरजपुर, राजनांदगांव, दुर्ग एवं गरियाबंद की महिला स्वसहायता समूहों की पदाधिकारियों ने पिछले डेढ़ दशक में छत्तीसगढ़ में हुए विकास को नजदीक से देखा। अध्ययन प्रवास के पहले दिन आज उन्होंने नया रायपुर में जंगल सफारी, मंत्रालय, शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम और पुरखौती मुक्तांगन का भ्रमण कर अपना अनुभव संसार समृद्ध किया। छह जिलों से स्वसहायता समूहों की 675 महिलाएं दो दिनों की अध्ययन यात्रा पर रायपुर आई हुई हैं। इनमें राजनांदगांव की 192, गरियाबंद की 134, दुर्ग की 111, सूरजपुर की 93, कोरिया की 81 एवं बलरामपुर-रामानुजगंज की 64 महिलाएं शामिल हैं। स्वसहायता समूहों की पदाधिकारियों ने पुरखौती मुक्तांगन में देर शाम लाइट एंड साउंड शो का आनन्द लिया, जहां कलाकारों ने ग्राम पंचायत के प्रतिनिधियों के कार्यों और जिम्मेदारियों पर आधारित नाट्य मंचन से उन्हें जागरूक किया। महिलाओं ने हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर नया रायपुर के उपरवारा के होटल प्रबंधन संस्थान में प्रशिक्षण और सामूहिक चर्चा में भी हिस्सा लिया। इसमें उन्हें अनेक योजनाओं तथा शासकीय कार्यक्रमों के प्रभावी क्रियान्वयन के बारे में बताया गया।

भारत दर्शन पर निकले भारतीय पुलिस सेवा के प्रशिक्षु अधिकारियों ने जाना-समझा हमर छत्तीसगढ़ योजना को

भारत दर्शन पर निकले भारतीय पुलिस सेवा के प्रशिक्षु अधिकारियों ने जाना-समझा हमर छत्तीसगढ़ योजना को

योजना के आवासीय परिसर का किया भ्रमण भारत दर्शन पर निकले भारतीय पुलिस सेवा के 14 प्रशिक्षु अधिकारियों ने आज शाम यहां हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर का भ्रमण किया। योजना को जानने-समझने नया रायपुर के उपरवारा स्थित आवासीय परिसर होटल प्रबंधन संस्थान पहुंचे इन अधिकारियों में उत्तरप्रदेश, तमिलनाडू, केरल, कर्नाटक, आंध्रप्रदेश, पश्चिम बंगाल, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश एवं केन्द्र शासित प्रदेश कैडर के 2017 बैच के नवनियुक्त भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी शामिल थे। हैदराबाद के सरदार वल्लभ भाई पटेल राष्ट्रीय पुलिस अकादमी में प्रशिक्षणरत् यह अधिकारी अध्ययन-सह-सांस्कृतिक भ्रमण पर चार राज्यों छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, बिहार और झारखंड का दौरा कर रहे हैं। आवासीय परिसर आने के पूर्व आज उन्होंने राज्यपाल श्री बलरामजी दास टंडन, मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और पुलिस महानिदेशक श्री ए.एन. उपाध्याय से भी मुलाकात की। आवासीय परिसर में अधिकारियों ने पंचायत प्रतिनिधियों और महिला स्वसहायता समूह के पदाधिकारियों के अध्ययन भ्रमण के लिए की गई विभिन्न व्यवस्थाओं को देखा। उन्होंने यहां जनसंपर्क विभाग द्वारा लगाई गई छायाचित्र प्रदर्शनी और स्वच्छ भारत मिशन प्रदर्शनी का अवलोकन किया। होलोग्राफिक थियेटर में उन्होंने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का पंचायत प्रतिनिधियों के लिए संदेश रमन के बात हमर मन के साथ भी देखा। हमर छत्तीसगढ़ योजना के प्रभारी अधिकारी श्री दिनेश अग्रवाल ने उन्हें योजना की खासियतों एवं अध्ययन भ्रमण पर आने वाले जनप्रतिनिधियों और पदाधिकारियों के लिए संचालित विभिन्न गतिविधियों के बारे में विस्तार से बताया।

विधिक सहायता क्लिनिक के जरिए महिलाओं को  निःशुल्क कानूनी मदद

विधिक सहायता क्लिनिक के जरिए महिलाओं को निःशुल्क कानूनी मदद

हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर, नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान में स्थापित विधिक सहायता क्लिनिक से स्वसहायता समूह की महिलाओं को निःशुल्क कानूनी सलाह एवं मदद मिल रही हैं। योजना के तहत अध्ययन भ्रमण पर आने वाली महिला स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों को उनके गांव से जुड़े या निजी मामलों पर आवासीय परिसर में संचालित विधिक सहायता क्लिनिक में निःशुल्क मार्गदर्शन दिया जाता है। रायपुर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के पैनल अधिवक्ता श्री शाहिर लुधियानवी खान उन्हें शासन द्वारा मुहैया कराई जाने वाली निःशुल्क विधिक सेवाओं के बारे में बताते हैं। अध्ययन भ्रमण पर राजधानी रायपुर आईं राजनांदगांव और गरियाबंद की महिलाओं ने यहां आवासीय परिसर के विधिक सहायता क्लिनिक में विभिन्न कानूनी मसलों पर सलाह-मशविरा किया। अधिवक्ता श्री शाहिर लुधियानवी खान ने राजनांदगांव जिले के आरसीटोला, टोंकपुर और बरसनपुर तथा गरियाबंद जिले के परसुली की स्वसहायता समूह की महिलाओं एवं उनके परिवार से संबंधित घरेलू हिंसा, भरण-पोषण, मोटर दुर्घटना दावा तथा हिन्दू उत्तराधिकार नियम के दायरे में आने वाले मामलों पर निःशुल्क सलाह एवं मार्गदर्शन दिया। श्री खान ने उन्हें जानकारी दी कि वे स्थानीय स्तर पर अपने जिले के जिला विधिक सेवा प्राधिकरण से संपर्क कर कानूनी सहायता ले सकते हैं। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण से उन्हें वकील की निःशुल्क सेवा भी मिल सकती है। पंचायत प्रतिनिधियों, सहकारिता प्रतिनिधियों और महिला स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों को कानूनी मदद उपलब्ध कराने के लिए हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर में पिछले 11 महीनों से विधिक सहायता क्लिनिक संचालित की जा रही है। अध्ययन प्रवास पर आने वाले जनप्रतिनिधि और पदाधिकारी इससे लगातार लाभान्वित हो रहे हैं। आवासीय परिसर में रोज आयोजित होने वाले प्रशिक्षण सत्र में उन्हें विभिन्न कानूनों की जानकारी भी दी जाती है। यहां उन्हें न्याय एवं अपने हक के लिए कानून के इस्तेमाल के लिए जागरूक भी किया जाता है।

स्वसहायता समूहों की 700 महिलाएं राजधानी के अध्ययन भ्रमण पर

स्वसहायता समूहों की 700 महिलाएं राजधानी के अध्ययन भ्रमण पर

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (बिहान) के तहत काम कर रहीं महिला स्वसहायता समूहों की 700 पदाधिकारी आज सवेरे अध्ययन भ्रमण पर राजधानी पहुंची। इनमें राजनांदगांव जिले की 209, बलरामपुर-रामानुजगंज की 158, सूरजपुर की 87, बलौदाबाजार-भाटापारा और सुकमा की 83-83 एवं गरियाबंद जिले की 79 महिलाएं शामिल हैं। हमर छत्तीसगढ़ योजना के अंतर्गत छह जिलों की स्वसहायता समूह की महिलाएं दो दिनों की अध्ययन यात्रा पर रायपुर आई हैं। ग्राम संगठन और संकुल संगठन की इन महिला पदाधिकारियों ने अध्ययन प्रवास के पहले दिन आज नया रायपुर में मंत्रालय, शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम और पुरखौती मुक्तांगन देखा। उन्होंने रायपुर के इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय का भी भ्रमण किया। हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर, नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान में छायाचित्र प्रदर्शनी और होलोग्राफिक प्रोजेक्शन तथा पुरखौती मुक्तांगन में लाइट एंड साउंड शो के जरिए उन्हें प्रदेश की उपलब्धियों एवं प्रगति की जानकारी दी गई। आवासीय परिसर में स्वसहायता समूह की महिलाओं के लिए प्रशिक्षण एवं समूह चर्चा का आयोजन किया गया। इसमें उन्हें सरकार की अनेक योजनाओं एवं कार्यक्रमों की जानकारी दी गई। वे अध्ययन यात्रा के दूसरे दिन कल 26 जून को जंगल सफारी, छत्तीसगढ़ विधानसभा एवं साइंस सेंटर का भ्रमण करेंगी।

स्वसहायता समूह की महिलाओं ने जाना शासकीय योजनाओं,  कानूनों और साक्षर भारत कार्यक्रम के बारे में

स्वसहायता समूह की महिलाओं ने जाना शासकीय योजनाओं, कानूनों और साक्षर भारत कार्यक्रम के बारे में

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन भ्रमण पर आईं महिला स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों को सरकार की विभिन्न योजनाओं, कानूनों और साक्षर भारत कार्यक्रम की जानकारी दी गई। योजना के आवासीय परिसर, नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान में स्वसहायता समूह की महिलाओं ने समूह चर्चा और प्रशिक्षण में हिस्सा लिया। हमर छत्तीसगढ़ योजना में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (बिहान) के अंतर्गत गठित महिला स्वसहायता समूहों के ग्राम संगठन एवं संकुल संगठन की 628 पदाधिकारी अध्ययन भ्रमण पर रायपुर आई हुई हैं। इनमें बस्तर, नारायणपुर, सरगुजा, रायपुर और धमतरी जिले की महिलाएं शामिल हैं। साक्षर भारत मिशन की मास्टर ट्रेनर श्रीमती अंजुम शेख ने अध्ययन भ्रमण पर आई महिलाओं को साक्षर भारत कार्यक्रम के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने महिलाओं को स्वयं पढ़ने-लिखने के साथ ही परिवार को भी शिक्षित करने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने बताया कि पारिवारिक जिम्मेदारियों, घरेलू दिक्कतों या अन्य किसी कारण से जिन महिलाओं की पढ़ाई बीच में छूट गई है, वे साक्षरता केन्द्र के माध्यम से अपनी पढ़ाई पूरी कर सकती हैं। श्रीमती शेख ने स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों को डिजिटल साक्षरता, राजनीतिक साक्षरता एवं वित्तीय साक्षरता के बारे में भी बताया। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के विकास विस्तार अधिकारी श्री जे.के. मिश्रा ने महिलाओं को राज्य एवं केन्द्र सरकार की योजनाओं की जानकारी दी। उन्होंने हमर छत्तीसगढ़ योजना के उद्देश्यों एवं भ्रमण स्थलों के बारे में बताया। रायपुर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के पैनल अधिवक्ता श्री शाहिर लुधियानवी खान ने स्वसहायता समूह की महिलाओं को लोक अदालत में मामलों के आपसी राजीनामे से निपटारे के बारे में बताया। उन्होंने पॉक्सो एक्ट के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी।

महानदी भवन का भ्रमण कर स्वसहायता समूह की महिलाओं ने  जाना मंत्रालय का काम-काज

महानदी भवन का भ्रमण कर स्वसहायता समूह की महिलाओं ने जाना मंत्रालय का काम-काज

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन प्रवास पर आईं महिला स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों ने आज दोपहर नया रायपुर में मंत्रालय (महानदी भवन) का भ्रमण कर वहां होने वाले प्रशासकीय कार्यों के बारे में जाना-समझा। उन्होंने यहां मंत्री ब्लॉक, सचिव ब्लॉक, प्रशासनिक ब्लॉक और एंसीलरी ब्लॉक का अवलोकन किया। उन्होंने पांचवे तल पर स्थित मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का कार्यालय भी देखा। मंत्रालय के रजिस्ट्रार श्री बी.एस. कुशवाहा ने उन्हें मंत्रालयीन कार्यों और प्रक्रियाओं की जानकारी दी। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (बिहान) के तहत ग्राम एवं संकुल स्तर पर काम कर रहीं स्वसहायता समूह की 628 पदाधिकारी हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत दो दिनों के अध्ययन भ्रमण पर आज सवेरे रायपुर पहुंची। इनमें धमतरी की 163, सरगुजा की 157, बस्तर की 129, नारायणपुर की 104 और रायपुर की 75 महिलाएं शामिल हैं। आज अध्ययन यात्रा के पहले दिन उन्होंने नया रायपुर में मंत्रालय सहित जंगल सफारी और शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम देखा। बस्तर और नारायणपुर की महिलाओं ने रायपुर के इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय का भी भ्रमण किया। स्वसहायता समूह की पदाधिकारी हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर, नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान में छायाचित्र प्रदर्शनी और होलोग्राफिक प्रोजेक्शन के जरिए छत्तीसगढ़ की उपलब्धियों एवं विकास गाथा से परिचित हुए। उन्होंने आवासीय परिसर में प्रशिक्षण कार्यक्रम तथा समूह चर्चा में भी हिस्सा लिया। प्रशिक्षण सत्र में उन्हें सरकार की अनेक योजनाओं एवं कार्यक्रमों की जानकारी दी गई।

स्वसहायता समूह की महिलाओं के साथ हमर छत्तीसगढ़ योजना के  अधिकारियों-कर्मचारियों ने भी किया योग

स्वसहायता समूह की महिलाओं के साथ हमर छत्तीसगढ़ योजना के अधिकारियों-कर्मचारियों ने भी किया योग

भ्रमण में आई महिलाओं ने योग दिवस पर किया सूर्य नमस्कार, अनुलोम-विलोम एवं प्राणायाम अध्ययन भ्रमण पर आने वाले सभी जनप्रतिनिधियों और पदाधिकारियों को कराया जाता है योगाभ्यास अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर आज यहां हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान में अध्ययन भ्रमण पर आईं महिला स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों के साथ अधिकारियों-कर्मचारियों ने भी योगाभ्यास किया। दो दिनों के अध्ययन भ्रमण पर राजधानी पहुंची कोंडागांव, कांकेर, राजनांदगांव, गरियाबंद और बलरामपुर-रामानुजगंज जिले की 700 से अधिक महिलाओं ने सूर्य नमस्कार, प्राणायाम, अनुलोम-विलोम एवं शवासन जैसे अनेक योगासनों का अभ्यास किया। योग प्रशिक्षिका सुश्री आकांक्षा नायक ने स्वसहायता समूह की महिलाओं और अधिकारियों-कर्मचारियों को योग के जरिए सेहतमंद और प्रसन्न रहने के गुर बताए। उल्लेखनीय है कि हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन भ्रमण पर आने वाले सभी जनप्रतिनिधियों और पदाधिकारियों को नियमित योगाभ्यास कराया जाता है। साथ ही उन्हें योग के महत्व, फायदों और योगासन से स्वस्थ और प्रसन्न रहने के तरीके भी बताए जाते हैं। हमर छत्तीसगढ़ योजना के प्रभारी अधिकारी श्री अजय श्रीवास्तव और श्री दिनेश अग्रवाल ने महिलाओं से नियमित योग करने की अपील की। उन्होंने योग से होने वाले लाभों को रेखांकित करते हुए कहा कि इससे दिन भर कार्य करने की ऊर्जा और स्फूर्ति मिलती है। योगाभ्यास करने से दिन भर शरीर चुस्त रहता है और ताजगी बनी रहती है।

स्वसहायता समूह की महिलाओं ने जाना ग्रामसभा का महत्व

स्वसहायता समूह की महिलाओं ने जाना ग्रामसभा का महत्व

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन भ्रमण पर आईं महिला स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों को पंचायतीराज, ग्रामसभा और सरकार की विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी गई। योजना के आवासीय परिसर, नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान में स्वसहायता समूह की महिलाओं ने समूह चर्चा और प्रशिक्षण में उत्साह से भाग लिया। हमर छत्तीसगढ़ योजना में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (बिहान) के अंतर्गत गठित महिला स्वसहायता समूहों के ग्राम संगठन एवं संकुल संगठन की 560 पदाधिकारी अध्ययन भ्रमण पर रायपुर आई हुई थी। इनमें राजनांदगांव जिले की 185, बलरामपुर-रामानुजगंज की 126, रायगढ़ की 88, कांकेर की 83 और गरियाबंद जिले की 78 महिलाएं थीं। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के विकास विस्तार अधिकारी श्री जे.के. मिश्रा ने महिलाओं को पंचायतीराज व्यवस्था के बारे में जानकारी दी। उन्होंने ग्रामसभा की बैठक से लेकर पंचायत के स्थाई समितियों के कार्यों के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने ग्रामसभा का महत्व रेखांकित करते हुए कहा कि हर वर्ष 23 जनवरी, 14 अप्रैल, 20 अगस्त और 02 अक्टूबर को पंचायतों में ग्रामसभा का आयोजन किया जाता है। इसमें पंचायत का हर मतदाता हिस्सा ले सकता है। सहायक विकास विस्तार अधिकारी श्री उदय राम कामड़े ने स्वसहायता समूह की महिलाओं को राज्य एवं केन्द्र सरकार की विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी। इस दौरान महिलाओं ने राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत अपने स्वसहायता समूह द्वारा किए जा रहे कार्यों के अनुभव आपस में साझा किए। महिलाओं को बचत के लिए प्रेरित करने के लिए लघु फिल्म भी दिखाई गई।

छत्तीसगढ़ के विकास के सफर और योजनाओं से रू-ब-रू हुईं स्वसहायता समूह की पदाधिकारी

छत्तीसगढ़ के विकास के सफर और योजनाओं से रू-ब-रू हुईं स्वसहायता समूह की पदाधिकारी

हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत दो दिनों के अध्ययन प्रवास पर राजधानी आईं बिलासपुर, राजनांदगांव, कांकेर, बलरामपुर-रामानुजगंज और गरियाबंद जिले के स्वसहायता समूह की महिलाओं ने रायपुर एवं नया रायपुर के अनेक स्थानों का भ्रमण किया। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (बिहान) में ग्राम संगठन एवं संकुल संगठन में काम कर रहीं पांचों जिलों की करीब साढ़े पांच सौ पदाधिकारी अध्ययन भ्रमण पर आईं हुई हैं। महिला स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों ने जंगल सफारी में वन्य जीवों को स्वच्छंद विचरण करते देखा। उन्होंने नया रायपुर स्थित मंत्रालय (महानदी भवन) का भ्रमण कर प्रशासनिक काम-काज के बारे में जाना-समझा। महिलाओं ने छत्तीसगढ़ विधानसभा में संसदीय प्रणाली, सदन की व्यवस्था और सत्र संचालन के बारे में जानकारी ली। कृषि विश्वविद्यालय में आधुनिक खेती, उन्नत बीज, उर्वरकों के उपयोग, मिट्टी परीक्षण एवं नवीन कृषि यंत्रों के बारे में उन्हें जानकारी दी गई। अध्ययन प्रवास के दौरान स्वसहायता समूह की महिलाओं ने शहीद वीर नारायण सिंह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम, पुरखौती मुक्तांगन और छत्तीसगढ़ विज्ञान केन्द्र का भी भ्रमण किया। हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर नया रायपुर के उपरवारा के होटल प्रबंधन संस्थान में उनके लिए दोनों दिन विभिन्न प्रशिक्षण सत्रों एवं सामूहिक चर्चा का आयोजन किया गया। इसमें महिलाओं ने अपने कार्यानुभव एक-दूसरे से साझा किए। विभिन्न सांस्कृतिक प्रस्तुतियों के माध्यम से उन्हें सरकार की योजनाओं और उनके प्रभावी क्रियान्वयन के बारे में जागरूक भी किया गया।

महिलाओं को दी गई कानून की जानकारी बस्तर, सरगुजा और रायपुर संभाग की साढ़े चार सौ महिलाएं

महिलाओं को दी गई कानून की जानकारी बस्तर, सरगुजा और रायपुर संभाग की साढ़े चार सौ महिलाएं

राजधानी के अध्ययन भ्रमण पर राजधानी रायपुर के अध्ययन भ्रमण पर आईं महिला स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों को विभिन्न कानूनों की जानकारी दी गई। हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर, नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान में महिलाओं को विधिक जागरूकता के साथ ही आजीविका प्रबंधन एवं सरकार की योजनाओं के बारे में बताया गया। राज्य शासन के हमर छत्तीसगढ़ योजना में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (बिहान) के अंतर्गत गठित महिला स्वसहायता समूहों के ग्राम संगठन एवं संकुल संगठन की 448 पदाधिकारी दो दिनों के अध्ययन भ्रमण पर रायपुर आई हुईं हैं। इनमें बस्तर, सरगुजा, रायपुर, बलौदाबाजार-भाटापारा एवं धमतरी जिले की महिलाएं शामिल हैं। आवासीय परिसर में दोपहर में आयोजित प्रशिक्षण सत्र में रायपुर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के पैनल अधिवक्ता श्री शाहिर लुधियानवी खान ने स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों को आदिवासियों के अधिकारों के संरक्षण, दहेज प्रताड़ना और टोनही प्रताड़ना निरोधक कानून की जानकारी दी। उन्होंने आपसी समझौते से निपटाए जा सकने वाले मामलों को शासन द्वारा समय-समय पर आयोजित लोक अदालतों में निपटाने का सुझाव दिया। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (बिहान) के राज्य कार्यक्रम प्रबंधक श्री वीकेश अग्रवाल ने स्वसहायता समूह की महिलाओं को आजीविका निर्माण एवं संवर्धन के लिए सरकार द्वारा दी जाने वाली वित्तीय सहायता के बारे में बताया। उन्होंने बचत खाता खुलवाकर ‘सखी’ बैंक के जरिए महिलाओं को अपनी बचत बढ़ाने के नुस्खे भी बताए। प्रशिक्षण के दौरान महिलाओं को लघु फिल्म दिखाकर बचत के लिए प्रेरित किया गया। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के विकास विस्तार अधिकारी श्री जे.के. मिश्रा और सहायक विकास विस्तार अधिकारी श्री उदय राम कामड़े ने स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों को राज्य एवं केन्द्र सरकार की अनेक योजनाओं की जानकारी दी। उन्होंने हमर छत्तीसगढ़ योजना के उद्देश्यों एवं भ्रमण स्थलों के बारे में भी बताया।

स्वसहायता समूह की महिलाओं ने देखा रायपुर और नया रायपुर

स्वसहायता समूह की महिलाओं ने देखा रायपुर और नया रायपुर

हमर छत्तीसगढ़ योजना में दो दिनों के अध्ययन प्रवास पर आईं स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों ने जंगल सफारी, मंत्रालय, इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, पुरखौती मुक्तांगन, छत्तीसगढ़ विधानसभा, साइंस सेंटर और शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम देखा। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत गठित महिला स्वसहायता समूहों के ग्राम संगठन और संकुल संगठन की 565 पदाधिकारी अध्ययन यात्रा पर राजधानी रायपुर पहुंची हैं। इनमें राजनांदगांव की 160, बलरामपुर-रामानुजगंज की 132, कांकेर की 94, गरियाबंद की 93 एवं जांजगीर-चांपा की 86 पदाधिकारी शामिल हैं। स्वसहायता समूह की महिलाएं अध्ययन प्रवास के पहले दिन पुरखौती मुक्तांगन में लाइट एंड साउंड शो के जरिए सरकार की योजनाओं और छत्तीसगढ़ के विभिन्न पहलुओं से रू-ब-रू हुईं। हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान में समूह चर्चा में महिलाओं ने अपने कार्यों और आजीविका संबंधी गतिविधियों के अनुभव एक-दूसरे से साझा किए। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारियों ने उन्हें विभिन्न शासकीय योजनाओं के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी।

विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर स्वसहायता समूह की महिलाओं  ने लिया नशामुक्त समाज का संकल्प

विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर स्वसहायता समूह की महिलाओं ने लिया नशामुक्त समाज का संकल्प

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन भ्रमण पर आईं स्वसहायता समूह की महिलाओं ने कल विश्व तंबाकू दिवस के मौके पर नशामुक्त समाज बनाने का संकल्प लिया। वे अपने परिवार और गांव में नशा करने वालों को रोकेंगी और उन्हें इससे होने वाले नुकसान के बारे में जागरूक करेंगी। हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर नया रायपुर के उपरवारा के होटल प्रबंधन संस्थान में महिलाओं को विश्व तंबाकू निषेध दिवस के बारे में बताया गया। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के सहायक विकास विस्तार अधिकारी श्री उदय राम कामड़े ने अध्ययन प्रवास पर आईं महिला स्वसहायता समूहों के पदाधिकारियों को तंबाकू सेवन और धूम्रपान से होने वाले नुकसान के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि तंबाकू से मुंह एवं पेट की कई बीमारियों के साथ ही कैंसर जैसा घातक रोग होता है। तंबाकू का सेवन और धूम्रपान न हम खुद करें और न ही परिवार में किसी को करने दें। आवासीय परिसर में प्रशिक्षण कार्यक्रम में वित्तीय साक्षरता के राज्य कार्यक्रम प्रबंधक श्री विकास अग्रवाल ने स्वसहायता समूह की महिलाओं को बचत बैंक के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बचत बैंक की जरूरत और महत्व को प्रभावी ढंग से समझाने के लिए एक लघु फिल्म भी दिखाया। हमर छत्तीसगढ़ योजना में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत कार्यरत सरगुजा, धमतरी, जशपुर, बस्तर और रायपुर जिले के विभिन्न स्वसहायता समूहों की 526 पदाधिकारी दो दिनों के अध्ययन भ्रमण पर रायपुर आईं हुई थी।

छत्तीसगढ़ के विकास को नजदीक से जाना-समझा  स्वसहायता समूह की महिलाओं ने

छत्तीसगढ़ के विकास को नजदीक से जाना-समझा स्वसहायता समूह की महिलाओं ने

हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत दो दिनों के अध्ययन भ्रमण पर राजधानी आईं बस्तर, सरगुजा, जशपुर, रायपुर और धमतरी के स्वसहायता समूह की महिलाओं ने रायपुर एवं नया रायपुर के अनेक स्थानों का भ्रमण किया। पांचों जिलों से राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत कार्यरत महिला स्वसहायता समूहों की 526 पदाधिकारी अध्ययन भ्रमण पर आईं हुईं हैं। सरगुजा की 128, धमतरी की 125, जशपुर की 104, बस्तर की 91 और रायपुर की 78 पदाधिकारी अध्ययन प्रवास पर रायपुर पहुंची हैं। स्वसहायता समूह की महिलाओं ने जंगल सफारी में बैटरीचलित वाहन में सैर किया और वहां वन्य जीवों को स्वच्छन्द माहौल में विचरते देखा। उन्होंने नया रायपुर स्थित मंत्रालय (महानदी भवन) का भ्रमण कर प्रशासनिक काम-काज के बारे में जाना-समझा। उन्होंने छत्तीसगढ़ विधानसभा में संसदीय प्रणाली, सदन की व्यवस्था और सत्र संचालन के बारे में जानकारी ली। महिलाओं को कृषि विश्वविद्यालय में आधुनिक खेती, उन्नत बीज, उर्वरकों के उपयोग, मिट्टी परीक्षण एवं नवीन कृषि यंत्रों के बारे में जानकारी दी गई। अध्ययन भ्रमण के दौरान उन्होंने शहीद वीर नारायण सिंह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम और छत्तीसगढ़ विज्ञान केंद्र भी देखा। स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों ने अध्ययन प्रवास के पहले दिन पुरखौती मुक्तांगन में मुक्ताकाशी मंच पर देर शाम लाइट एंड साउंड शो का आनन्द लिया। इसमें कलाकारों ने ग्राम पंचायतों के प्रतिनिधियों के कार्यों पर आधारित नाट्य मंचन से उन्हें जागरूक किया। हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर नया रायपुर के उपरवारा के होटल प्रबंधन संस्थान में महिलाओं के लिए दोनों दिन विभिन्न प्रशिक्षण सत्रों एवं सामूहिक चर्चा का आयोजन किया गया। इसमें स्वसहायता समूह की महिलाओं ने अपनी आजीविकामूलक कार्यों के अनुभव एक-दूसरे से साझा किए।

स्वसहायता समूह की महिलाओं के अध्ययन भ्रमण का पहला दिन  नया रायपुर में देखा जंगल सफारी, मंत्रालय, क्रिकेट स्टेडियम और मुक्तांगन

स्वसहायता समूह की महिलाओं के अध्ययन भ्रमण का पहला दिन नया रायपुर में देखा जंगल सफारी, मंत्रालय, क्रिकेट स्टेडियम और मुक्तांगन

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन प्रवास पर आईं महिला स्वसहायता समूह के पदाधिकारियों ने आज नया रायपुर में जंगल सफारी, मंत्रालय (महानदी भवन), शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम और पुरखौती मुक्तांगन का भ्रमण किया। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत गठित महिला स्वसहायता समूहों के ग्राम संगठन और संकुल संगठन की 526 पदाधिकारी दो दिनों की अध्ययन यात्रा पर राजधानी रायपुर आईं हैं। इनमें महिला स्वसहायता समूहों के ग्राम संगठन के अध्यक्ष, सचिव और ग्राम संगठन सहायिका तथा संकुल संगठन के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव, उपसचिव, कोषाध्यक्ष एवं लेखापाल सहित अन्य पदाधिकारी शामिल हैं। महिलाओं के अध्ययन प्रवास का आज पहला दिन था। हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर, नया रायपुर के होटल प्रबंधन संस्थान में स्वसहायता समूह की महिलाओं को विभिन्न शासकीय योजनाओं की जानकारी दी गई। आज देर शाम उन्होंने पुरखौती मुक्तांगन में लाइट एंड साउंड शो भी देखा। इसमें उन्हें छत्तीसगढ़ के पृथक राज्य बनने से लेकर अब तक के विकास की झलक दिखाई गई। साथ ही प्रदेश के पौराणिक, ऐतिहासिक, पुरातात्विक और सांस्कृतिक पहलुओं की भी जानकारी दी गई। शो में उन्हें सरकार की अनेक योजनाओं के बारे में भी बताया गया। विभिन्न स्वसहायता समूहों से सरगुजा जिले की 128, धमतरी की 125, जशपुर की 104, बस्तर की 91 और रायपुर जिले की 78 पदाधिकारी अध्ययन दौरे पर रायपुर आईं हैं।

 स्वसहायता समूह की महिलाओं ने सीखा  सोशियल मीडिया से जुड़ने के गुर

स्वसहायता समूह की महिलाओं ने सीखा सोशियल मीडिया से जुड़ने के गुर

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन भ्रमण पर आईं महिला स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों ने सोशियल मीडिया से जुड़ने और उसके उपयोग के गुर सीखे। सोशियल मीडिया की उपयोगिता की जानकारी देते हुए हमर छत्तीसगढ़ योजना की अधिकारी श्रीमती शिवानी श्रीवास्तव ने उन्हें योजना की वेबसाइट और फेसबुक पेज से जुड़ने का तरीका बताया। श्रीमती श्रीवास्तव ने उन्हें यू-ट्यूब पर योजना से संबंधित वीडियो देखना भी सिखाया। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (बिहान) के अंतर्गत गठित महिला स्वसहायता समूहों के ग्राम संगठन एवं संकुल संगठन की 468 पदाधिकारी अध्ययन भ्रमण पर रायपुर आई हुईं हैं। इनमें राजनांदगांव, गरियाबंद, कांकेर और बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के स्वसहायता समूह की पदाधिकारी शामिल हैं। हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर, नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान में इन्हें सरकार की योजनाओं, कानूनों एवं साक्षरता के महत्व के बारे में भी जानकारी दी गई। साक्षर भारत कार्यक्रम के आरंग विकासखंड के कार्यक्रम अधिकारी श्री टी.सी. जायसवाल ने स्वसहायता समूह की महिलाओं को साक्षरता की जरूरत एवं महत्व के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि महिला सशक्तिकरण के लिए शिक्षा बहुत जरूरी है। सुशिक्षित महिलाएं शासन की योजनाओं को बेहतर ढंग से समझकर उनका लाभ ले सकती हैं। रायपुर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के पैनल अधिवक्ता श्री शाहिर लुधियानवी खान ने महिलाओं को विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा दी जाने वाली सुविधाओं के बारे में बताया। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के सहायक विकास विस्तार अधिकारी श्री उदय राम कामड़े ने स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों को केन्द्र एवं राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी।

स्वसहायता समूहों की 468 महिलाएं राजधानी के अध्ययन भ्रमण पर

स्वसहायता समूहों की 468 महिलाएं राजधानी के अध्ययन भ्रमण पर

हमर छत्तीसगढ़ योजना में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (बिहान) के अंतर्गत गठित महिला स्वसहायता समूहों के ग्राम संगठन एवं संकुल संगठन की 468 पदाधिकारी अध्ययन भ्रमण पर रायपुर आई हुईं हैं। इनमें राजनांदगांव जिले की 196, बलरामपुर-रामानुजगंज की 107, गरियाबंद की 87 एवं कांकेर जिले की 78 महिलाएं शामिल हैं। स्वसहायता समूह की महिलाओं ने अध्ययन प्रवास के पहले दिन आज यहां नया रायपुर में मंत्रालय, पुरखौती मुक्तांगन एवं शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का भ्रमण किया। उन्होंने रायपुर का इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय भी देखा। स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों ने हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान में समूह चर्चा एवं प्रशिक्षण में हिस्सा लिया। इस दौरान उन्हें महिलाओं से जुड़े विभिन्न कानूनों और साक्षर भारत कार्यक्रम के बारे में जानकारी दी गई। महिलाओं ने देर शाम पुरखौती मुक्तांगन में लाइट एंड साउंड शो का आनंद लिया।

स्वसहायता समूहों की पदाधिकारियों को दी गई योजनाओं, कानूनों  और साक्षर भारत कार्यक्रम की जानकारी

स्वसहायता समूहों की पदाधिकारियों को दी गई योजनाओं, कानूनों और साक्षर भारत कार्यक्रम की जानकारी

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन भ्रमण पर आईं महिला स्वसहायता समूहों की पदाधिकारियों को सरकार की विभिन्न योजनाओं, कानूनों और साक्षर भारत कार्यक्रम की जानकारी दी गई। योजना के आवासीय परिसर, नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान में स्वसहायता समूहों की महिलाओं ने समूह चर्चा और प्रशिक्षण में उत्साह से भाग लिया। हमर छत्तीसगढ़ योजना में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (बिहान) के अंतर्गत गठित महिला स्वसहायता समूहों के ग्राम संगठन एवं संकुल संगठन की 474 पदाधिकारी अध्ययन भ्रमण पर रायपुर आई हुईं हैं। इनमें कोंडागांव जिले की 133, सरगुजा की 132, रायपुर की 77, बस्तर की 71 एवं धमतरी जिले की 61 महिलाएं शामिल हैं। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के विकास विस्तार अधिकारी श्री जे.के. मिश्रा ने महिलाओं को राज्य एवं केन्द्र सरकार की योजनाओं की जानकारी दी। उन्होंने हमर छत्तीसगढ़ योजना के उद्देश्यों एवं भ्रमण स्थलों के बारे में बताया। रायपुर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के पैनल अधिवक्ता श्री शाहिर लुधियानवी खान ने स्वसहायता समूहों की महिलाओं को लोक अदालत में मामलों के आपसी राजीनामे से निपटारे के बारे में बताया। उन्होंने पॉक्सो एक्ट के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी। प्रशिक्षण में साक्षर भारत मिशन के श्री टिकेश्वर सिन्हा ने पढ़ाई-लिखाई के महत्व को रेखांकित किया। उन्होंने कहा कि केवल हस्ताक्षर करने आना साक्षरता नहीं है। पढ़-लिखकर महिलाएं समाज में न केवल अपनी स्थिति मजबूत कर सकती हैं, बल्कि उन्हें रोजगार और स्वरोजगार के बेहतर अवसर भी मिलते हैं।

हमारा स्टेडियम देश का दूसरा सबसे बड़ा स्टेडियम, जानकर  गर्व से भर उठी महिलाएं

हमारा स्टेडियम देश का दूसरा सबसे बड़ा स्टेडियम, जानकर गर्व से भर उठी महिलाएं

अध्ययन भ्रमण पर आईं महिला स्वसहायता समूहों की पदाधिकारियों ने देखा जंगल सफारी, मंत्रालय, मुक्तांगन एवं क्रिकेट स्टेडियम हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत अध्ययन प्रवास पर आईं स्वसहायता समूह की महिलाओं ने आज यहां नया रायपुर में जंगल सफारी, मंत्रालय, पुरखौती मुक्तांगन एवं शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का भ्रमण किया। नया रायपुर में भव्य क्रिकेट स्टेडियम को देखकर वे रोमांचित हुईं। जिस स्टेडियम को अब तक वे तस्वीरों और टेलीविजन में देखते आए थे उसे देखना उनके लिए अनूठा अनुभव था। महिलाएं यह जानकर आश्चर्य और गर्व से भर उठीं कि हमारा स्टेडियम बैठक क्षमता के लिहाज से देश का दूसरा सबसे बड़ा स्टेडियम है। हमर छत्तीसगढ़ योजना में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (बिहान) के अंतर्गत गठित महिला स्वसहायता समूहों के ग्राम संगठन एवं संकुल संगठन की 474 पदाधिकारी अध्ययन भ्रमण पर रायपुर आई हुईं हैं। इनमें कोंडागांव जिले की 133, सरगुजा की 132, रायपुर की 77, बस्तर की 71 एवं धमतरी जिले की 61 महिलाएं शामिल हैं। दो दिवसीय अध्ययन प्रवास का आज पहला दिन था। स्वसहायता समूह की महिलाओं ने योजना के आवासीय परिसर नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान में समूह चर्चा एवं प्रशिक्षण में हिस्सा लिया। इस दौरान उन्हें महिलाओं से जुड़े विभिन्न कानूनों और साक्षर भारत कार्यक्रम के बारे में जानकारी दी गई। महिलाओं ने देर शाम पुरखौती मुक्तांगन में लाइट एंड साउंड शो का आनंद लिया।

 संसदीय व्यवस्था और विधानसभा की कार्यप्रणाली को समझा स्वसहायता समूह की महिलाओं ने

संसदीय व्यवस्था और विधानसभा की कार्यप्रणाली को समझा स्वसहायता समूह की महिलाओं ने

अध्ययन भ्रमण के दूसरे दिन देखा विधानसभा, साइंस सेंटर एवं क्रिकेट स्टेडियम अध्ययन प्रवास पर राजधानी आईं पांच जिलों बलरामपुर-रामानुजगंज, कांकेर, गरियाबंद, महासमुंद और राजनांदगांव की स्वसहायता समूहों की पदाधिकारियों ने आज यहां छत्तीसगढ़ विधानसभा, साइंस सेंटर एवं शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का भ्रमण किया। उन्होंने विधानसभा में संसदीय व्यवस्था और वहां की कार्यप्रणाली के बारे में जाना-समझा। विधानसभा के अधिकारियों ने उन्हें विधानसभा की कार्यवाहियों, नियमों, प्रक्रियाओं एवं कार्यों की जानकारी दी। महिलाओं ने यहां विधानसभा का सदन और प्रेक्षागृह देखा। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (बिहान) के अंतर्गत गठित महिला स्वसहायता समूहों के ग्राम संगठन एवं संकुल संगठन की पदाधिकारियों ने अध्ययन यात्रा के दूसरे दिन आज छत्तीसगढ़ विज्ञान केन्द्र (साइंस सेंटर) का भ्रमण किया। यहां वे विज्ञान के चमत्कारों और अनुप्रयोगों से परिचित हुईं। स्वसहायता समूह की महिलाओं ने नया रायपुर में शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम भी देखा। जिस स्टेडियम को अब तक वे तस्वीरों और टेलीविजन में देखते आए थे उसे प्रत्यक्षतः देखना उनके लिए खास अनुभव था। महिलाएं यह जानकार गर्व से भर उठीं कि उनकी राजधानी का स्टेडियम देश का दूसरा सबसे बड़ा स्टेडियम है। अध्ययन प्रवास के दोनों दिन स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों ने हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान में समूह चर्चा एवं प्रशिक्षण में हिस्सा लिया। योग प्रशिक्षक की देखरेख में सवेरे उन्होंने योगाभ्यास किया। उन्होंने शाम को सांस्कृतिक प्रस्तुतियों का आनंद भी लिया। हमर छत्तीसगढ़ योजना में पांच जिलों की 509 महिलाएं अध्ययन प्रवास पर रायपुर आईं हैं। इनमें राजनांदगांव की 153, बलरामपुर-रामानुजगंज की 105, कांकेर की 99, गरियाबंद की 88 एवं महासमुंद की 64 महिलाएं शामिल हैं।

कृषि विश्वविद्यालय और मुक्तांगन  पांच जिलों की 509 महिलाएं आईं हैं राजधानी के अध्ययन भ्रमण पर

कृषि विश्वविद्यालय और मुक्तांगन पांच जिलों की 509 महिलाएं आईं हैं राजधानी के अध्ययन भ्रमण पर

स्वसहायता समूहों की महिलाओं ने देखा जंगल सफारी, मंत्रालय, राज्य शासन के हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन प्रवास पर आईं स्वसहायता समूहों की पदाधिकारियों ने आज यहां जंगल सफारी, मंत्रालय (महानदी भवन), इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय और पुरखौती मुक्तांगन देखा। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत गठित महिला स्वसहायता समूहों के ग्राम संगठन और संकुल संगठन की 509 पदाधिकारी दो दिवसीय अध्ययन यात्रा पर राजधानी रायपुर पहुंची हैं। इनमें राजनांदगांव की 153, बलरामपुर-रामानुजगंज की 105, कांकेर की 99, गरियाबंद की 88 एवं महासमुंद की 64 पदाधिकारी शामिल हैं। अध्ययन दल में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत गठित महिला स्वसहायता समूहों के ग्राम संगठन की अध्यक्ष, सचिव और ग्राम संगठन सहायिका तथा संकुल संगठन की अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव, उपसचिव, कोषाध्यक्ष, लेखापाल एवं अन्य पदाधिकारी शामिल हैं। यह महिलाएं अध्ययन प्रवास के दूसरे दिन कल 24 मई को छत्तीसगढ़ विधानसभा, साइंस सेंटर, शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम एवं स्वामी विवेकानंद विमानतल का भ्रमण करेंगी। अध्ययन भ्रमण पर यहां पहुंची अधिकांश महिलाएं पहली बार नया रायपुर आईं हैं। वे जंगल सफारी में वन्य जीवों को खुले में विचरण करते देख खासी रोमांचित हुईं। उन्होंने हिरनों की विभिन्न प्रजातियों के साथ यहां बाघ, सिंह और भालू देखे। मंत्रालय भ्रमण के दौरान रजिस्ट्रार श्री बी.एस. कुशवाहा ने महिलाओं को वहां होने वाले प्रशासकीय कार्यों और प्रक्रियाओं की जानकारी दी। स्वसहायता समूहों की पदाधिकारियों ने यहां प्रशासकीय ब्लॉक, एंसीलरी ब्लॉक, मंत्री ब्लॉक, सचिव ब्लॉक, व्यायामशाला, समिति कक्ष और ग्रंथालय का अवलोकन किया। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में महिलाओं को उन्नत कृषि और उद्यानिकी फसलों के बारे में बताया गया। उन्होंने यहां खेती के आधुनिक उपकरणों और मशीनों के बारे में भी जाना। स्वसहायता समूहों की महिलाएं पुरखौती मुक्तांगन में लाइट एंड साउंड शो के जरिए सरकार की योजनाओं और छत्तीसगढ़ के विभिन्न पहलुओं से रू-ब-रू हुईं। हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान में समूह चर्चा में महिलाओं ने अपने कार्यों और आजीविका संबंधी गतिविधियों के अनुभव एक-दूसरे से साझा किए। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारियों ने उन्हें विभिन्न शासकीय योजनाओं के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी।

 स्वसहायता समूहों की 606 महिलाएं राजधानी के अध्ययन भ्रमण पर

स्वसहायता समूहों की 606 महिलाएं राजधानी के अध्ययन भ्रमण पर

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत गांवों में काम रहीं महिला स्वसहायता समूहों की 606 पदाधिकारी इन दिनों राजधानी के अध्ययन भ्रमण पर हैं। यह महिलाएं राज्य शासन की हमर छत्तीसगढ़ योजना के अंतर्गत दो दिनों की अध्ययन यात्रा पर यहां पहुंची हैं। प्रवास के पहले दिन आज उन्होंने नया रायपुर में मंत्रालय, शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम और पुरखौती मुक्तांगन का भ्रमण किया। उन्होंने रायपुर स्थित इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय भी देखा। विभिन्न स्वसहायता समूहों से कोरबा की 190, बालोद की 182, कबीरधाम की 174 और बीजापुर की 60 पदाधिकारी अध्ययन दौरे पर रायपुर आईं हैं। हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर, नया रायपुर के होटल प्रबंधन संस्थान में स्वसहायता समूह की महिलाओं को विभिन्न शासकीय योजनाओं की जानकारी दी गई। आज देर शाम उन्होंने पुरखौती मुक्तांगन में लाइट एंड साउंड शो भी देखा। इसमें उन्हें छत्तीसगढ़ के पृथक राज्य बनने से लेकर अब तक के विकास की झलक दिखाई गई। साथ ही प्रदेश के पौराणिक, ऐतिहासिक, पुरातात्विक और सांस्कृतिक पहलुओं की भी जानकारी दी गई। शो में उन्हें सरकार की अनेक योजनाओं के बारे में भी बताया गया।

स्वसहायता समूह की महिलाओं ने जाना ग्रामसभा का महत्व

स्वसहायता समूह की महिलाओं ने जाना ग्रामसभा का महत्व

हमर छत्तीसगढ़ योजना में राजधानी के अध्ययन प्रवास पर आयीं महिला स्वसहायता समूहों के पदाधिकारियों को सरकार की विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी गई। उन्हें ग्रामसभा के महत्व के बारे में भी बताया गया। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के विकास विस्तार अधिकारी श्री जे.के. मिश्रा ने उन्हें राज्य और केन्द्र सरकार की योजनाओं की विस्तार से जानकारी दी। इस दौरान राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन ‘बिहान’ पर आधारित लघु फिल्म भी महिलाओं को दिखायी गई। फिल्म देखने के बाद स्वसहायता समूह की महिलाओं ने सवाल पूछकर अपनी जिज्ञासाओं का समाधान भी किया। हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर, नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान में प्रशिक्षण सत्र में विकास विस्तार अधिकारी श्री मिश्रा ने महिलाओं को बताया कि प्रत्येक ग्राम पंचायत में वर्ष में चार ग्रामसभा का आयोजन अनिवार्य है। मतदाता सूची में शामिल गांव के 18 वर्ष से अधिक उम्र के सभी व्यक्ति ग्रामसभा के सदस्य होते हैं। उन्होंने बताया कि इसमें गांव की कार्ययोजना पर चर्चा होती है। पंचायत द्वारा पूर्व वर्ष में किए गए कार्यों का लेखा-जोखा भी ग्रामसभा में तैयार किया जाता है। स्वसहायता समूह की पदाधिकारियों ने समूह चर्चा में भी उत्साह से भाग लिया। इस दौरान उन्होंने अपने अध्ययन भ्रमण के अनुभव भी साझा किए। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत विभिन्न गतिविधियों में संलग्न महिला स्वसहायता समूह की 431 पदाधिकारी दो दिनों की अध्ययन यात्रा पर राजधानी रायपुर आयीं हुई थी। इनमें राजनांदगांव की 159, गरियाबंद की 92, बेमेतरा की 91 और कांकेर की 89 पदाधिकारी शामिल थीं।

स्वसहायता समूह की महिलाओं के अध्ययन भ्रमण का पहला दिन, नया रायपुर में देखा जंगल सफारी, मंत्रालय, क्रिकेट स्टेडियम और मुक्तांगन

स्वसहायता समूह की महिलाओं के अध्ययन भ्रमण का पहला दिन, नया रायपुर में देखा जंगल सफारी, मंत्रालय, क्रिकेट स्टेडियम और मुक्तांगन

राजनांदगांव, बेमेतरा, गरियाबंद एवं कांकेर की 431 महिलाएं आईं हैं अध्ययन प्रवास पर हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन प्रवास पर आईं महिला स्वसहायता समूहों के पदाधिकारियों ने आज नया रायपुर में जंगल सफारी, मंत्रालय (महानदी भवन), शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम और पुरखौती मुक्तांगन का भ्रमण किया। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत गठित महिला स्वसहायता समूहों के ग्राम संगठन और संकुल संगठन के 431 पदाधिकारी दो दिनों की अध्ययन यात्रा पर राजधानी रायपुर आए हैं। इनमें महिला स्वसहायता समूहों के ग्राम संगठन के अध्यक्ष, सचिव और ग्राम संगठन सहायिका तथा संकुल संगठन के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव, उपसचिव, कोषाध्यक्ष एवं लेखापाल सहित अन्य पदाधिकारी शामिल हैं। हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर, नया रायपुर के होटल प्रबंधन संस्थान में स्वसहायता समूह की महिलाओं को सरकार की योजनाओं की जानकारी दी गई। यह पदाधिकारी अध्ययन भ्रमण के दूसरे दिन कल 17 मई को छत्तीसगढ़ विधानसभा, इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, साइंस सेंटर और स्वामी विवेकानंद विमानतल देखेंगी। विभिन्न स्वसहायता समूहों से राजनांदगांव की 159, गरियाबंद की 92, बेमेतरा की 91 और कांकेर की 89 पदाधिकारी अध्ययन दौरे पर रायपुर आईं हैं।

मंत्रालय, क्रिकेट स्टेडियम, मुक्तांगन और कृषि विश्वविद्यालय

मंत्रालय, क्रिकेट स्टेडियम, मुक्तांगन और कृषि विश्वविद्यालय

छह जिलों के 700 से अधिक पंच-सरपंचों ने देखा राजधानी रायपुर के अध्ययन प्रवास पर आए छह जिलों के 707 पंचायत प्रतिनिधियों ने आज यहां नया रायपुर में मंत्रालय (महानदी भवन), शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम और पुरखौती मुक्तांगन देखा। उन्होंने रायपुर के इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय का भी भ्रमण किया। राज्य शासन के हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत बालोद के 156, कांकेर और सरगुजा के 138-138, धमतरी के 137, बस्तर के 99 एवं कबीरधाम के 39 पंच-सरपंच दो दिनों की अध्ययन यात्रा पर रायपुर पहुंचे हैं। उनके प्रवास का आज पहला दिन था। पंचायत प्रतिनिधियों ने हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर, नया रायपुर के उपरवारा के होटल प्रबंधन संस्थान में प्रशिक्षण सत्र और समूह चर्चा में हिस्सा लिया। इस दौरान उन्हें सरकार की योजनाओं की जानकारी दी गई। पंच-सरपंचों ने देर शाम पुरखौती मुक्तांगन में लाइट एंड साउंड शो का आनंद लिया। इसमें छत्तीसगढ़ के पौराणिक, पुरातात्विक, ऐतिहासिक, तथा सांस्कृतिक विशेषताओं के साथ ही शासन की महत्वाकांक्षी योजनाओं एवं कार्यक्रमों के बारे में बताया गया। पंचायत प्रतिनिधि अध्ययन प्रवास के दूसरे दिन कल 15 मई को जंगल सफारी, छत्तीसगढ़ विधानसभा, साइंस सेंटर एवं स्वामी विवेकानंद विमानतल का भ्रमण करेंगे।

हमर छत्तीसगढ़ योजना में स्वसहायता समूह की महिलाएं भी आएंगी राजधानी के अध्ययन भ्रमण पर

हमर छत्तीसगढ़ योजना में स्वसहायता समूह की महिलाएं भी आएंगी राजधानी के अध्ययन भ्रमण पर

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत गठित स्वसहायता समूह की महिलाएं प्रदेश के विकास से होंगी रू-ब-रू, देखेंगी रायपुर और नया रायपुर 16 और 17 मई को राजनांदगांव, बेमेतरा, गरियाबंद, कांकेर और बलरामपुर की महिलाएं पहुंचेंगी अध्ययन प्रवास पर रायपुर. 11 मई 2018. छत्तीसगढ़ शासन की अभिनव और बहुचर्चित योजना ‘हमर छत्तीसगढ़’ में जल्द ही एक नया आयाम जुड़ने जा रहा है। पंचायत प्रतिनिधियों एवं सहकारिता प्रतिनिधियों के बाद अब इस योजना से स्वसहायता समूह की महिलाओं को भी जोड़ा जा रहा है। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत गठित महिला स्वसहायता समूहों के ग्राम संगठन और संकुल संगठन के पदाधिकारी दो दिनों के अध्ययन भ्रमण पर राजधानी आएंगी। आगामी डेढ़ महीनों में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत प्रदेश के 85 सघन विकासखंडों में काम रही महिला स्वसहायता समूहों की 11 हजार पदाधिकारियों को रायपुर और नया रायपुर का भ्रमण कराया जाएगा। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री आर.पी. मंडल ने सभी कलेक्टरों को परिपत्र जारी कर इस संबंध में आवश्यक तैयारियों के निर्देश दिए हैं। उन्होंने बस्तर एवं सरगुजा संभाग के सभी जिलों की महिला प्रतिनिधियों को भ्रमण के एक दिन पहले रात नौ बजे के पूर्व हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर पहुंचने के लिए कहा है। वहीं रायपुर, दुर्ग और बिलासपुर संभाग के प्रतिनिधियों को प्रवास के पहले दिन सवेरे नौ बजे के पूर्व आवासीय परिसर पहुंचने के लिए निर्देशित किया गया है। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत गठित महिला स्वसहायता समूह के ग्राम संगठन के अध्यक्ष, सचिव और ग्राम संगठन सहायिका में से दो पदाधिकारियों को भ्रमण दल में शामिल किया जाएगा। संकुल संगठन के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव, उपसचिव, कोषाध्यक्ष और लेखापाल सहित सभी पदाधिकारी अध्ययन दल में शामिल रहेंगे। स्वसहायता समूह के पदाधिकारियों के अध्ययन दौरे की शुरूआत 16 मई से होगी। इस दिन पांच जिलों राजनांदगांव, बेमेतरा, गरियाबंद, कांकेर और बलरामपुर-रामानुजगंज की करीब 600 महिला पदाधिकारी अध्ययन प्रवास पर नया रायपुर पहुंचेंगी। दो दिवसीय अध्ययन यात्रा के दौरान वे छत्तीसगढ़ विधानसभा, मंत्रालय, जंगल सफारी, इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम, साइंस सेंटर और पुरखौती मुक्तांगन का भ्रमण करेंगी। 01 जुलाई 2016 से शुरू हुई हमर छत्तीसगढ़ योजना में अब तक एक लाख 43 हजार 756 निर्वाचित जनप्रतिनिधि राजधानी की अध्ययन यात्रा कर चुके हैं। इनमें त्रिस्तरीय पंचायतीराज संस्थाओं के एक लाख 37 हजार 300 और सहकारी संस्थाओं के छह हजार 456 प्रतिनिधि शामिल हैं।

पंचायत प्रतिनिधियों ने किया योग

पंचायत प्रतिनिधियों ने किया योग

राजधानी के अध्ययन भ्रमण पर आए पांच जिलों के पंचायत प्रतिनिधियों ने आज सवेरे यहां हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर, नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान में योगाभ्यास किया। योग प्रशिक्षकों ने उन्हें स्वस्थ और प्रसन्न रहने के गुर बताए। स्वस्थ और निरोगी जीवन के लिए पंच-सरपंचों को उन्होंने संतुलित खान-पान और दिनचर्या अपनाने कहा। हमर छत्तीसगढ़ योजना में पांच जिलों के 517 पंचायत प्रतिनिधि दो दिनों के अध्ययन प्रवास पर रायपुर आए हुए हैं। इनमें सूरजपुर के 178, बलरामपुर-रामानुजगंज के 142, जशपुर के 91, महासमुंद के 66 तथा कांकेर के 40 पंच-सरपंच शामिल हैं।

जशपुर, सूरजपुर, बलरामपुर, कांकेर और महासमुंद के  पंच-सरपंचों ने देखा नया रायपुर

जशपुर, सूरजपुर, बलरामपुर, कांकेर और महासमुंद के पंच-सरपंचों ने देखा नया रायपुर

राज्य शासन के हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत आज सवेरे यहां जशपुर, सूरजपुर, बलरामपुर-रामानुजगंज, कांकेर और महासमुंद के 517 पंचायत प्रतिनिधि अध्ययन भ्रमण पर रायपुर पहुंचे। दो दिनों के अध्ययन प्रवास के पहले दिन आज उन्होंने नया रायपुर में जंगल सफारी, मंत्रालय (महानदी भवन), शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम और पुरखौती मुक्तांगन देखा। मुक्तांगन में मुक्ताकाशी मंच पर लाइट एंड साउंड शो के जरिए वे प्रदेश से जुड़े पौराणिक आख्यानों, इतिहास, पुरातत्व, छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण की कहानी एवं अब तक के विकास के सफर के साथ ही शासन की अनेक योजनाओं से रू-ब-रू हुए। अध्ययन भ्रमण पर आए सूरजपुर जिले के 178, बलरामपुर-रामानुजगंज के 142, जशपुर के 91, महासमुंद के 66 तथा कांकेर जिले के 40 पंच-सरपंचों ने हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर नया रायपुर के उपरवारा के होटल प्रबंधन संस्थान में प्रशिक्षण एवं समूह चर्चा में हिस्सा लिया। इस दौरान उन्हें सरकार की विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी गई। पंचायत प्रतिनिधि अध्ययन यात्रा के दूसरे दिन कल 04 मई को रायपुर में छत्तीसगढ़ विधानसभा, इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, साइंस सेंटर एवं स्वामी विवेकानंद विमानतल का भ्रमण करेंगे।