समूह चर्चा एक - फायदे अनेक.

समूह चर्चा एक - फायदे अनेक.

हमर छत्तीसगढ़ योजना के महत्वपूर्ण अध्याय “समूह चर्चाओं” से पंचायत जनप्रतिनिधियों के जीवन में सकारात्मक बदलाव आ रहे हैं. उनके क्षेत्रों में विकास से जुड़े सभी मुद्दों पर चर्चाओं के माध्यम से बेहतर ढंग से समझने का मौका मिलता है. तात्कालिक महत्त्व के ज़रूरी कार्य हों या किसी शासकीय योजना का क्रियान्वयन, यहाँ जनप्रतिनिधि अपने विचार रख पाते हैं और उनकी ज़रूरतों का समाधान भी उन्हें मिलता है. आज की समूह चर्चा में राजनादगांव जिले से आये प्रतिनिधियों को योजना से जुड़ी जानकारी प्राप्त हुई, भ्रमण और उसके महत्त्व उन्होंने जाना, स्वच्छ भारत अभियान पर गंभीर चर्चा हुई और सफलता की कहानी से सभी को प्रोत्साहन मिला. प्रभारी अधिकारी श्री दिनेश अग्रवाल ने पंचायत प्रतिनिधियों से उनका हाल चाल पूछा साथ ही उन्हें योजना के उद्देश्य से परिचित करवाया। चर्चा में स्वच्छ भारत मिशन प्रेरक, रायगढ़ सुश्री नैना प्रधान, स्वच्छ भारत मिशन प्रेरक, कांकेर श्री अभिषेक सिंह एवम स्वच्छ भारत मिशन प्रेरक, बिलासपुर सुश्री सचिना गुरुंग जी उपस्थित रहे। सुश्री नैना प्रधान ने प्रतिनिधियों को बताया कि स्वच्छ भारत मिशन का उद्देश्य स्वच्छता ही नहीं वरन सुरक्षित रहना भी है। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के वरिष्ठ विस्तार अधिकारी श्री जे के मिश्रा ने हमर छत्तीसगढ़ योजना के सभी पहलुओं पर प्रकाश डाला, उसे क्यों संचालित किया जाता है और उसका मूल उद्देश्य क्या है? प्रदेश के सभी जिलों को विकास से जोड़ना और छत्तीसगढ़ प्रदेश बनने के बाद से अब तक का विकास क्या है और हम किस दिशा में आगे बढ़ रहे हैं, इसे सभी को बताना और प्रत्यक्ष हिस्सा बनाना. उन्होंने जनप्रतिनिधियों को इस बात के लिए प्रेरित किया की वे अपने विचार और अपने अनुभव सभी के साथ बाटें ताकि सभी को सीखने और साथ आगे बढ़ने का मौका मिले. इस मौका का लाभ उठाते हुए जनप्रतिनिधि श्रीमती कांति बाई ने बताया कि पहले उनके गांव की दशा ठीक नहीं थी, सब तरफ धूल, और स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याएं घर बनाए रहती थीं, फिर ग्रामवासियों को स्वच्छ भारत अभियान की जानकारी मिली, सभी ने प्रयास किया, स्वच्छता के महत्त्व को समझा और सफाई का विशेष ख्याल रखा. इससे गाँव में अनेक फायदे हुए, वातावरण हरा-भरा रहने लगा, लोग कम बीमार पड़ते हैं और स्वच्छता को अपनी जिम्मेदारी समझते हैं. बेमेतरा तथा जांजगीर-चांपा के जनप्रतिनिधयों के लिए भी समूह चर्चा एक नया अनुभव था. उन्होंने सोशल मिडिया, योजना की वेबसाइट, मोबाइल एप का इस्तेमाल, अपनी प्रतिक्रियाएं देने, अपने अनुभव साझा करना सीखा. स्वास्थ्य के क्षेत्र में संचालित लाभकारी योजनाओं का वे कैसे लाभ उठा सकते हैं और कौन उन योजनाओं के हितग्राही हो सकते हैं, इस पर भी चर्चा हुई. साथ ही उन्हें विधिक सेवा प्राधिकरण की जानकारी मिली. विकास विस्तार अधिकारी श्री जयंत मिश्रा ने जनप्रतिनिधियों से योजना और योजना के तेहत भ्रमण के अनुभव पूछे, हमर छत्तीसगढ़ योजना के डिजिटल फॉर्मेट वेबसाइट, मोबाइल एप्लीकेशन, सोशल मीडिया में योजना की मौजूदगी, इन सब का इस्तेमाल सिखाया. यह सभी के लिए आकर्षक इसलिए था क्योंकि जनप्रतिनिधियों को यह समझ आया की वे अपने भ्रमण की तस्वीरें और चल-चित्र अपने घर बैठे देख सकेंगें, लोगों को भेज सकेंगें, अपनी प्रतिक्रियां दे सकेंगें और अन्य जनप्रतिनिधियों की गतिविधियों को भी देख सकेंगें. विकास विस्तार अधिकारी श्री चंद्रशेखर शर्मा एवं सहायक विकास विस्तार अधिकारी श्री उदयराम कामड़े मुख्य रूप से मौजूद थे. विकास विस्तार अधिकारी श्री मिश्रा ने उन्हें उनके ही जैसे अनेक जनप्रतिनिधियों के अपनी-अपनी ग्राम पंचायतों में लाए सकारात्मक बदलाव की कहानियां बताई और उनसे इन कहानियों से प्रेरणा लेकर कार्य करते रहने का संकल्प लेने कहा. उन्होंने मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना, दीनदयाल ग्रामीण कौशल विकास योजना, मुख्यमंत्री बाल हृदय सुरक्षा योजना, नोनी सुरक्षा योजना आदि पर भी जानकारी दी. इसके पश्चात विधिक सेवा प्राधिकरण विशेषज्ञ पैनल अधिवक्ता श्री साहिर लुधियानवी खान ने जनप्रतिनिधियों बताया की गरीबी रेखा, बाढ़ पीड़ित, हिंसा प्रभावित क्षेत्र आदि में जनसामान्य को न्याय सम्बन्धी ज़रूरत में विधिक सेवा प्राधिकरण के तेहत कैसे मदद मिल सकती है. उन्होंने लोक अदालत, नामकरण त्रुटि सुधार आदि महत्वपूर्ण विषयों पर भी उन्हें जानकारी दी.

Click here to download high resolution photo

Click here to more photo