वीडियो गैलरी

Date
Month
Year
District
Video Category



Previous12345...6162Next

15 - 16 अक्टूबर 2017, सरगुजा संभाग के पंच-सरपंचों ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात ...

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण पर आए बलरामपुर-रामानुजगंज, सरगुजा, सूरजपुर एवं जशपुर जिले के पंच-सरपंचों ने सिविल लाईन स्थित मुख्यमंत्री निवास में मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह से मुलाकात की। इस अवसर पर पूर्व संसदीय सचिव श्री सिद्धनाथ पैकरा एवं प्रदेश अनुसूचित जनजाति मोर्चा के अध्यक्ष एवं राजपुर जनपद के उपाध्यक्ष श्री विश्वनाथ जायसवाल भी मौजूद रहे। योजना के नोडल अधिकारी श्री सुभाष मिश्रा ने प्रतिनिधियों को भ्रमण यात्रा की शुभकामनाएं देते हुए हमर छत्तीसगढ़ योजना के उद्देश्य के बारे में बताया। प्रतिनिधियों ने भी पुष्पगुच्छ से मुख्यमंत्री जी का स्वागत किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने प्रतिनिधियों का स्वागत अभिनंदन करते हुए संबोधित किया.कार्यक्रम में प्रभारी अधिकारी श्री दिनेश अग्रवाल, प्रभारी अधिकारी श्री अजय श्रीवास्तव, विकास विस्तार अधिकारी श्री जे. के. मिश्रा उपस्थित थे.

15 - 16 अक्टूबर 2017, समूह चर्चा में अनेक योजनाओं पर बातचीत ...

हमर छत्तीसगढ़ योजना आवासीय परिसर में समूह चर्चा कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें सरगुजा, बलरामपुर-रामानुजगंज, सूरजपुर एवं जशपुर जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने बड़े उत्साह से अपनी भागीदारी निभाई. योजना के नोडल अधिकारी श्री सुभाष मिश्रा ने जनप्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा कि आप सभी मनरेगा, श्रद्धांजलि योजना, आंगनबाड़ी से जुड़ी हुई जानकारी आपस में साझा करें, अपने पंचायत के सभी लोगों को बताएं. विकास विस्तार अधिकारी श्री जे. के. मिश्रा ने बताया कि विभिन्न योजनाओं का संचालन प्रतिनिधियों के माध्यम से होता है। सरकार और जनता के बीच आप लोग ही सबसे महत्वपूर्ण कड़ी हैं। हमर छत्तीसगढ़ योजना में मिला अनुभव हम सबको जरूर बताएं। पैनल अधिवक्ता श्री शाहिर लुधियानवी खान ने विधिक सेवा प्राधिकरण के संबंध में महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की। करारोपण अधिकारी श्री ठाकुर ने पंचायतों में करारोपण के संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि ग्राम पंचायतों को विभिन्न प्रकार के रजिस्टर बनाकर पंचायतों की जानकारी एकत्रित रखनी चाहिए. इस दौरान प्रभारी अधिकारी श्री दिनेश अग्रवाल, करारोपण अधिकारी श्री चंद्रशेखर शर्मा, सहायक विकास विस्तार अधिकारी श्री विजय साहू, श्री उदयराम कामड़े मौजूद रहे।

15 - 16 अक्टूबर 2017, बलरामपुर - रामानुजगंज जिले पंचायत प्रतिनिधियों ने देखा “हमर छत्तीसगढ़”

हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत् नया रायपुर में हुए विकास कार्यों को देखने पंचायत प्रतिनिधि पहुंचे हैं। अध्ययन यात्रा के दौरान इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय में खेती-किसानी, फसलों की उत्पादकता बढ़ाने, उपकरणों के उपयोग का तकनीकी ज्ञान, उच्च मूल्य वर्ग की संरक्षित फसलों के उत्पाद, पुरखौती मुक्तांगन में प्रदेश की लोक-संस्कृति को करीब से समझने, छत्तीसगढ़ विज्ञान केंद्र में देश-विदेश के अविष्कारों को देखने, मंत्रालय में प्रशासन के कामकाज से रूबरू होने, प्रदेश की सबसे बड़ी पंचायत छत्तीसगढ़ विधानसभा में संसदीय प्रणाली के बारे में जानने-समझने का मौका मिला है, इससे प्रतिनिधियों का ज्ञानवर्धन हो रहा है। दो दिनों के प्रवास के दौरान विभिन्न क्षेत्रों के अनेक प्रतिनिधियों का आपसी परिचय और अध्ययन से मिली जानकारी का दायरा बढ़ने से गांव का विकास बेहतर तरीके से हो सकेगा। यहां की यादें अपने साथ लेकर जनप्रतिनिधि भले ही लौट जाएंगे, लेकिन हमर छत्तीसगढ़ योजना में मिले अनुभव एवं नया रायपुर के अभूतपूर्व विकास की झांकी हमेशा उन्हें विकास के पथ पर बढ़ने के लिए प्रेरित करती रहेगी। बलरामपुर - रामानुजगंज जिले, पंचायत प्रतिनिधि विकास की झलकियों को देखते, करीब से महसूस करते हुए |

15 - 16 अक्टूबर 2017, सरगुजा एवं जशपुर जिले पंचायत प्रतिनिधियों ने देखा “हमर छत्तीसगढ़”

हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत् नया रायपुर में हुए विकास कार्यों को देखने पंचायत प्रतिनिधि पहुंचे हैं। अध्ययन यात्रा के दौरान इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय में खेती-किसानी, फसलों की उत्पादकता बढ़ाने, उपकरणों के उपयोग का तकनीकी ज्ञान, उच्च मूल्य वर्ग की संरक्षित फसलों के उत्पाद, पुरखौती मुक्तांगन में प्रदेश की लोक-संस्कृति को करीब से समझने, छत्तीसगढ़ विज्ञान केंद्र में देश-विदेश के अविष्कारों को देखने, मंत्रालय में प्रशासन के कामकाज से रूबरू होने, प्रदेश की सबसे बड़ी पंचायत छत्तीसगढ़ विधानसभा में संसदीय प्रणाली के बारे में जानने-समझने का मौका मिला है, इससे प्रतिनिधियों का ज्ञानवर्धन हो रहा है। दो दिनों के प्रवास के दौरान विभिन्न क्षेत्रों के अनेक प्रतिनिधियों का आपसी परिचय और अध्ययन से मिली जानकारी का दायरा बढ़ने से गांव का विकास बेहतर तरीके से हो सकेगा। यहां की यादें अपने साथ लेकर जनप्रतिनिधि भले ही लौट जाएंगे, लेकिन हमर छत्तीसगढ़ योजना में मिले अनुभव एवं नया रायपुर के अभूतपूर्व विकास की झांकी हमेशा उन्हें विकास के पथ पर बढ़ने के लिए प्रेरित करती रहेगी। सरगुजा एवं जशपुर जिले, पंचायत प्रतिनिधि विकास की झलकियों को देखते, करीब से महसूस करते हुए |

15 - 16 अक्टूबर 2017, सूरजपुर एवं बलरामपुर जिले पंचायत प्रतिनिधियों ने देखा “हमर छत्तीसगढ़”

हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत् नया रायपुर में हुए विकास कार्यों को देखने पंचायत प्रतिनिधि पहुंचे हैं। अध्ययन यात्रा के दौरान इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय में खेती-किसानी, फसलों की उत्पादकता बढ़ाने, उपकरणों के उपयोग का तकनीकी ज्ञान, उच्च मूल्य वर्ग की संरक्षित फसलों के उत्पाद, पुरखौती मुक्तांगन में प्रदेश की लोक-संस्कृति को करीब से समझने, छत्तीसगढ़ विज्ञान केंद्र में देश-विदेश के अविष्कारों को देखने, मंत्रालय में प्रशासन के कामकाज से रूबरू होने, प्रदेश की सबसे बड़ी पंचायत छत्तीसगढ़ विधानसभा में संसदीय प्रणाली के बारे में जानने-समझने का मौका मिला है, इससे प्रतिनिधियों का ज्ञानवर्धन हो रहा है। दो दिनों के प्रवास के दौरान विभिन्न क्षेत्रों के अनेक प्रतिनिधियों का आपसी परिचय और अध्ययन से मिली जानकारी का दायरा बढ़ने से गांव का विकास बेहतर तरीके से हो सकेगा। यहां की यादें अपने साथ लेकर जनप्रतिनिधि भले ही लौट जाएंगे, लेकिन हमर छत्तीसगढ़ योजना में मिले अनुभव एवं नया रायपुर के अभूतपूर्व विकास की झांकी हमेशा उन्हें विकास के पथ पर बढ़ने के लिए प्रेरित करती रहेगी। सूरजपुर एवं बलरामपुर - रामानुजगंज जिले, पंचायत प्रतिनिधि विकास की झलकियों को देखते, करीब से महसूस करते हुए |

सूरजपुर एवं जशपुर जिले पंचायत प्रतिनिधियों ने देखा “हमर छत्तीसगढ़”

हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत् नया रायपुर में हुए विकास कार्यों को देखने पंचायत प्रतिनिधि पहुंचे हैं। अध्ययन यात्रा के दौरान इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय में खेती-किसानी, फसलों की उत्पादकता बढ़ाने, उपकरणों के उपयोग का तकनीकी ज्ञान, उच्च मूल्य वर्ग की संरक्षित फसलों के उत्पाद, पुरखौती मुक्तांगन में प्रदेश की लोक-संस्कृति को करीब से समझने, छत्तीसगढ़ विज्ञान केंद्र में देश-विदेश के अविष्कारों को देखने, मंत्रालय में प्रशासन के कामकाज से रूबरू होने, प्रदेश की सबसे बड़ी पंचायत छत्तीसगढ़ विधानसभा में संसदीय प्रणाली के बारे में जानने-समझने का मौका मिला है, इससे प्रतिनिधियों का ज्ञानवर्धन हो रहा है। दो दिनों के प्रवास के दौरान विभिन्न क्षेत्रों के अनेक प्रतिनिधियों का आपसी परिचय और अध्ययन से मिली जानकारी का दायरा बढ़ने से गांव का विकास बेहतर तरीके से हो सकेगा। यहां की यादें अपने साथ लेकर जनप्रतिनिधि भले ही लौट जाएंगे, लेकिन हमर छत्तीसगढ़ योजना में मिले अनुभव एवं नया रायपुर के अभूतपूर्व विकास की झांकी हमेशा उन्हें विकास के पथ पर बढ़ने के लिए प्रेरित करती रहेगी। सूरजपुर एवं जशपुर जिले, पंचायत प्रतिनिधि विकास की झलकियों को देखते, करीब से महसूस करते हुए |

ग्राम पंचायतों में करारोपण पर समूह चर्चा ...

हमर छत्तीसगढ़ योजना जिला सरगुजा के पंचायत प्रतिनिधियों हेतु प्रतिदिन अनुसार समूह चर्चा कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें करारोपण अधिकारी पंचायत विभाग श्री चंद्रशेखर शर्मा, श्री राकेश ठाकुर ने विभिन्न विषयों पर चर्चा की।

सरगुजा जिले पंचायत प्रतिनिधियों ने देखा “हमर छत्तीसगढ़”

हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत् नया रायपुर में हुए विकास कार्यों को देखने पंचायत प्रतिनिधि पहुंचे हैं। अध्ययन यात्रा के दौरान इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय में खेती-किसानी, फसलों की उत्पादकता बढ़ाने, उपकरणों के उपयोग का तकनीकी ज्ञान, उच्च मूल्य वर्ग की संरक्षित फसलों के उत्पाद, पुरखौती मुक्तांगन में प्रदेश की लोक-संस्कृति को करीब से समझने, छत्तीसगढ़ विज्ञान केंद्र में देश-विदेश के अविष्कारों को देखने, मंत्रालय में प्रशासन के कामकाज से रूबरू होने, प्रदेश की सबसे बड़ी पंचायत छत्तीसगढ़ विधानसभा में संसदीय प्रणाली के बारे में जानने-समझने का मौका मिला है, इससे प्रतिनिधियों का ज्ञानवर्धन हो रहा है। दो दिनों के प्रवास के दौरान विभिन्न क्षेत्रों के अनेक प्रतिनिधियों का आपसी परिचय और अध्ययन से मिली जानकारी का दायरा बढ़ने से गांव का विकास बेहतर तरीके से हो सकेगा। यहां की यादें अपने साथ लेकर जनप्रतिनिधि भले ही लौट जाएंगे, लेकिन हमर छत्तीसगढ़ योजना में मिले अनुभव एवं नया रायपुर के अभूतपूर्व विकास की झांकी हमेशा उन्हें विकास के पथ पर बढ़ने के लिए प्रेरित करती रहेगी। सरगुजा जिले, पंचायत प्रतिनिधि विकास की झलकियों को देखते, करीब से महसूस करते हुए |

मुंगेली जिले पंचायत प्रतिनिधियों ने देखा “हमर छत्तीसगढ़”

हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत् नया रायपुर में हुए विकास कार्यों को देखने पंचायत प्रतिनिधि पहुंचे हैं। अध्ययन यात्रा के दौरान इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय में खेती-किसानी, फसलों की उत्पादकता बढ़ाने, उपकरणों के उपयोग का तकनीकी ज्ञान, उच्च मूल्य वर्ग की संरक्षित फसलों के उत्पाद, पुरखौती मुक्तांगन में प्रदेश की लोक-संस्कृति को करीब से समझने, छत्तीसगढ़ विज्ञान केंद्र में देश-विदेश के अविष्कारों को देखने, मंत्रालय में प्रशासन के कामकाज से रूबरू होने, प्रदेश की सबसे बड़ी पंचायत छत्तीसगढ़ विधानसभा में संसदीय प्रणाली के बारे में जानने-समझने का मौका मिला है, इससे प्रतिनिधियों का ज्ञानवर्धन हो रहा है। दो दिनों के प्रवास के दौरान विभिन्न क्षेत्रों के अनेक प्रतिनिधियों का आपसी परिचय और अध्ययन से मिली जानकारी का दायरा बढ़ने से गांव का विकास बेहतर तरीके से हो सकेगा। यहां की यादें अपने साथ लेकर जनप्रतिनिधि भले ही लौट जाएंगे, लेकिन हमर छत्तीसगढ़ योजना में मिले अनुभव एवं नया रायपुर के अभूतपूर्व विकास की झांकी हमेशा उन्हें विकास के पथ पर बढ़ने के लिए प्रेरित करती रहेगी। मुंगेली जिले, पंचायत प्रतिनिधि विकास की झलकियों को देखते, करीब से महसूस करते हुए |

13 - 14 अक्टूबर 2017, मुंगेली जिले पंचायत प्रतिनिधियों ने देखा “हमर छत्तीसगढ़”

हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत् नया रायपुर में हुए विकास कार्यों को देखने पंचायत प्रतिनिधि पहुंचे हैं। अध्ययन यात्रा के दौरान इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय में खेती-किसानी, फसलों की उत्पादकता बढ़ाने, उपकरणों के उपयोग का तकनीकी ज्ञान, उच्च मूल्य वर्ग की संरक्षित फसलों के उत्पाद, पुरखौती मुक्तांगन में प्रदेश की लोक-संस्कृति को करीब से समझने, छत्तीसगढ़ विज्ञान केंद्र में देश-विदेश के अविष्कारों को देखने, मंत्रालय में प्रशासन के कामकाज से रूबरू होने, प्रदेश की सबसे बड़ी पंचायत छत्तीसगढ़ विधानसभा में संसदीय प्रणाली के बारे में जानने-समझने का मौका मिला है, इससे प्रतिनिधियों का ज्ञानवर्धन हो रहा है। दो दिनों के प्रवास के दौरान विभिन्न क्षेत्रों के अनेक प्रतिनिधियों का आपसी परिचय और अध्ययन से मिली जानकारी का दायरा बढ़ने से गांव का विकास बेहतर तरीके से हो सकेगा। यहां की यादें अपने साथ लेकर जनप्रतिनिधि भले ही लौट जाएंगे, लेकिन हमर छत्तीसगढ़ योजना में मिले अनुभव एवं नया रायपुर के अभूतपूर्व विकास की झांकी हमेशा उन्हें विकास के पथ पर बढ़ने के लिए प्रेरित करती रहेगी। मुंगेली जिले, पंचायत प्रतिनिधि विकास की झलकियों को देखते, करीब से महसूस करते हुए |

13 - 14 अक्टूबर 2017, समूह चर्चा - तृतीय लिंग समुदाय को समाज में मिले बराबर सम्मान ...

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण पर आए जांजगीर-चांपा एवं मुंगेली जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने समूह चर्चा कार्यक्रम में शामिल होकर योजनाओं के संबंध में जाना. योजना के प्रभारी अधिकारी श्री दिनेश अग्रवाल ने जनप्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए बताया कि किसी भी विकास कार्य को पूर्ण करने के लिए या कहा जाए मूर्त रुप देने के लिए आवश्यक होता है कि आप को अपने अधिकार प्राप्त करने का ज्ञान हो। इनके पश्चात तृतीय लिंग मितवा समूह की सदस्य सुश्री रवीना बिरहा ने तृतीय लिंग की समाज में दशा और दिशा विषय अपनी बात रखी। इसी विषय पर मितवा समूह की अध्यक्ष सुश्री विद्या राजपूत ने कहा कि यह समूह तृतीय लिंग के कल्याण एवं समाज में उनकी स्वीकारोक्ति के लिए कार्य करता है। हमारे समुदाय के लोगों का आप सहयोग करें, क्योंकि आप जनप्रतिनिधि समाज में उनको पहचान व सम्मान दिला सकते हैं।

13 - 14 अक्टूबर 2017, जांजगीर - चांपा जिले पंचायत प्रतिनिधियों ने देखा “हमर छत्तीसगढ़”

हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत् नया रायपुर में हुए विकास कार्यों को देखने पंचायत प्रतिनिधि पहुंचे हैं। अध्ययन यात्रा के दौरान इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय में खेती-किसानी, फसलों की उत्पादकता बढ़ाने, उपकरणों के उपयोग का तकनीकी ज्ञान, उच्च मूल्य वर्ग की संरक्षित फसलों के उत्पाद, पुरखौती मुक्तांगन में प्रदेश की लोक-संस्कृति को करीब से समझने, छत्तीसगढ़ विज्ञान केंद्र में देश-विदेश के अविष्कारों को देखने, मंत्रालय में प्रशासन के कामकाज से रूबरू होने, प्रदेश की सबसे बड़ी पंचायत छत्तीसगढ़ विधानसभा में संसदीय प्रणाली के बारे में जानने-समझने का मौका मिला है, इससे प्रतिनिधियों का ज्ञानवर्धन हो रहा है। दो दिनों के प्रवास के दौरान विभिन्न क्षेत्रों के अनेक प्रतिनिधियों का आपसी परिचय और अध्ययन से मिली जानकारी का दायरा बढ़ने से गांव का विकास बेहतर तरीके से हो सकेगा। यहां की यादें अपने साथ लेकर जनप्रतिनिधि भले ही लौट जाएंगे, लेकिन हमर छत्तीसगढ़ योजना में मिले अनुभव एवं नया रायपुर के अभूतपूर्व विकास की झांकी हमेशा उन्हें विकास के पथ पर बढ़ने के लिए प्रेरित करती रहेगी। जांजगीर - चांपा जिले, पंचायत प्रतिनिधि विकास की झलकियों को देखते, करीब से महसूस करते हुए |

13 - 14 अक्टूबर 2017, बिलासपुर जिले पंचायत प्रतिनिधियों ने देखा “हमर छत्तीसगढ़”

हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत् नया रायपुर में हुए विकास कार्यों को देखने पंचायत प्रतिनिधि पहुंचे हैं। अध्ययन यात्रा के दौरान इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय में खेती-किसानी, फसलों की उत्पादकता बढ़ाने, उपकरणों के उपयोग का तकनीकी ज्ञान, उच्च मूल्य वर्ग की संरक्षित फसलों के उत्पाद, पुरखौती मुक्तांगन में प्रदेश की लोक-संस्कृति को करीब से समझने, छत्तीसगढ़ विज्ञान केंद्र में देश-विदेश के अविष्कारों को देखने, मंत्रालय में प्रशासन के कामकाज से रूबरू होने, प्रदेश की सबसे बड़ी पंचायत छत्तीसगढ़ विधानसभा में संसदीय प्रणाली के बारे में जानने-समझने का मौका मिला है, इससे प्रतिनिधियों का ज्ञानवर्धन हो रहा है। दो दिनों के प्रवास के दौरान विभिन्न क्षेत्रों के अनेक प्रतिनिधियों का आपसी परिचय और अध्ययन से मिली जानकारी का दायरा बढ़ने से गांव का विकास बेहतर तरीके से हो सकेगा। यहां की यादें अपने साथ लेकर जनप्रतिनिधि भले ही लौट जाएंगे, लेकिन हमर छत्तीसगढ़ योजना में मिले अनुभव एवं नया रायपुर के अभूतपूर्व विकास की झांकी हमेशा उन्हें विकास के पथ पर बढ़ने के लिए प्रेरित करती रहेगी। बिलासपुर जिले, पंचायत प्रतिनिधि विकास की झलकियों को देखते, करीब से महसूस करते हुए |

13 - 14 अक्टूबर 2017, मुंगेली जिले पंचायत प्रतिनिधियों ने देखा “हमर छत्तीसगढ़”

हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत् नया रायपुर में हुए विकास कार्यों को देखने पंचायत प्रतिनिधि पहुंचे हैं। अध्ययन यात्रा के दौरान इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय में खेती-किसानी, फसलों की उत्पादकता बढ़ाने, उपकरणों के उपयोग का तकनीकी ज्ञान, उच्च मूल्य वर्ग की संरक्षित फसलों के उत्पाद, पुरखौती मुक्तांगन में प्रदेश की लोक-संस्कृति को करीब से समझने, छत्तीसगढ़ विज्ञान केंद्र में देश-विदेश के अविष्कारों को देखने, मंत्रालय में प्रशासन के कामकाज से रूबरू होने, प्रदेश की सबसे बड़ी पंचायत छत्तीसगढ़ विधानसभा में संसदीय प्रणाली के बारे में जानने-समझने का मौका मिला है, इससे प्रतिनिधियों का ज्ञानवर्धन हो रहा है। दो दिनों के प्रवास के दौरान विभिन्न क्षेत्रों के अनेक प्रतिनिधियों का आपसी परिचय और अध्ययन से मिली जानकारी का दायरा बढ़ने से गांव का विकास बेहतर तरीके से हो सकेगा। यहां की यादें अपने साथ लेकर जनप्रतिनिधि भले ही लौट जाएंगे, लेकिन हमर छत्तीसगढ़ योजना में मिले अनुभव एवं नया रायपुर के अभूतपूर्व विकास की झांकी हमेशा उन्हें विकास के पथ पर बढ़ने के लिए प्रेरित करती रहेगी। मुंगेली जिले, पंचायत प्रतिनिधि विकास की झलकियों को देखते, करीब से महसूस करते हुए |

13 - 14 अक्टूबर 2017, जांजगीर - चांपा जिले पंचायत प्रतिनिधियों ने देखा “हमर छत्तीसगढ़”

हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत् नया रायपुर में हुए विकास कार्यों को देखने पंचायत प्रतिनिधि पहुंचे हैं। अध्ययन यात्रा के दौरान इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय में खेती-किसानी, फसलों की उत्पादकता बढ़ाने, उपकरणों के उपयोग का तकनीकी ज्ञान, उच्च मूल्य वर्ग की संरक्षित फसलों के उत्पाद, पुरखौती मुक्तांगन में प्रदेश की लोक-संस्कृति को करीब से समझने, छत्तीसगढ़ विज्ञान केंद्र में देश-विदेश के अविष्कारों को देखने, मंत्रालय में प्रशासन के कामकाज से रूबरू होने, प्रदेश की सबसे बड़ी पंचायत छत्तीसगढ़ विधानसभा में संसदीय प्रणाली के बारे में जानने-समझने का मौका मिला है, इससे प्रतिनिधियों का ज्ञानवर्धन हो रहा है। दो दिनों के प्रवास के दौरान विभिन्न क्षेत्रों के अनेक प्रतिनिधियों का आपसी परिचय और अध्ययन से मिली जानकारी का दायरा बढ़ने से गांव का विकास बेहतर तरीके से हो सकेगा। यहां की यादें अपने साथ लेकर जनप्रतिनिधि भले ही लौट जाएंगे, लेकिन हमर छत्तीसगढ़ योजना में मिले अनुभव एवं नया रायपुर के अभूतपूर्व विकास की झांकी हमेशा उन्हें विकास के पथ पर बढ़ने के लिए प्रेरित करती रहेगी। जांजगीर - चांपा जिले, पंचायत प्रतिनिधि विकास की झलकियों को देखते, करीब से महसूस करते हुए |

13 - 14 अक्टूबर 2017, बिलासपुर जिले पंचायत प्रतिनिधियों ने देखा “हमर छत्तीसगढ़”

हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत् नया रायपुर में हुए विकास कार्यों को देखने पंचायत प्रतिनिधि पहुंचे हैं। अध्ययन यात्रा के दौरान इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय में खेती-किसानी, फसलों की उत्पादकता बढ़ाने, उपकरणों के उपयोग का तकनीकी ज्ञान, उच्च मूल्य वर्ग की संरक्षित फसलों के उत्पाद, पुरखौती मुक्तांगन में प्रदेश की लोक-संस्कृति को करीब से समझने, छत्तीसगढ़ विज्ञान केंद्र में देश-विदेश के अविष्कारों को देखने, मंत्रालय में प्रशासन के कामकाज से रूबरू होने, प्रदेश की सबसे बड़ी पंचायत छत्तीसगढ़ विधानसभा में संसदीय प्रणाली के बारे में जानने-समझने का मौका मिला है, इससे प्रतिनिधियों का ज्ञानवर्धन हो रहा है। दो दिनों के प्रवास के दौरान विभिन्न क्षेत्रों के अनेक प्रतिनिधियों का आपसी परिचय और अध्ययन से मिली जानकारी का दायरा बढ़ने से गांव का विकास बेहतर तरीके से हो सकेगा। यहां की यादें अपने साथ लेकर जनप्रतिनिधि भले ही लौट जाएंगे, लेकिन हमर छत्तीसगढ़ योजना में मिले अनुभव एवं नया रायपुर के अभूतपूर्व विकास की झांकी हमेशा उन्हें विकास के पथ पर बढ़ने के लिए प्रेरित करती रहेगी। बिलासपुर जिले, पंचायत प्रतिनिधि विकास की झलकियों को देखते, करीब से महसूस करते हुए |

13 - 14 अक्टूबर 2017, स्वच्छता, साक्षरता, ग्राम विकास पर सामूहिक चर्चा ...

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण पर आए जांजगीर-चांपा जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने समूह चर्चा कार्यक्रम में शामिल होकर योजनाओं के संबंध में जाना. कार्यक्रम में योजना के प्रभारी अधिकारी श्री दिनेश अग्रवाल, विकास विस्तार अधिकारी श्री चंद्रशेखर शर्मा, सहायक विकास विस्तार अधिकारी श्री उदयराम कामड़े तथा उपसंचालक साक्षर भारत मिशन श्री प्रशांत कुमार पांडे आदि उपस्थित रहे। सहायक विकास विस्तार अधिकारी श्री उदयराम कामड़े ने हमर छत्तीसगढ़ योजना के उद्देश्य से अवगत कराया. प्रभारी अधिकारी श्री दिनेश अग्रवाल ने जनप्रतिनिधियों को बताया कि इन स्थलों को देखना आपके लिए कितना जरूरी है. साक्षर भारत मिशन के असिस्टेंट डायरेक्टर श्री प्रशांत कुमार पांडे ने कविताओं “आदमी हो आदमी के वास्ते पढ़ो, तुम नई जिंदगी के वास्ते पढ़ो तथा पढ़े ल जाबो पढ़े ल जाबो रे” के माध्यम से जनप्रतिनिधियों को साक्षर भारत मिशन के उद्देश्य बताते हुए कहा कि पढ़ना-लिखना आवश्यक है.

11 - 12 अक्टूबर 2017, बलौदाबाजार - भाटापारा जिले पंचायत प्रतिनिधियों ने देखा “हमर छत्तीसगढ़”

हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत् नया रायपुर में हुए विकास कार्यों को देखने पंचायत प्रतिनिधि पहुंचे हैं। अध्ययन यात्रा के दौरान इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय में खेती-किसानी, फसलों की उत्पादकता बढ़ाने, उपकरणों के उपयोग का तकनीकी ज्ञान, उच्च मूल्य वर्ग की संरक्षित फसलों के उत्पाद, पुरखौती मुक्तांगन में प्रदेश की लोक-संस्कृति को करीब से समझने, छत्तीसगढ़ विज्ञान केंद्र में देश-विदेश के अविष्कारों को देखने, मंत्रालय में प्रशासन के कामकाज से रूबरू होने, प्रदेश की सबसे बड़ी पंचायत छत्तीसगढ़ विधानसभा में संसदीय प्रणाली के बारे में जानने-समझने का मौका मिला है, इससे प्रतिनिधियों का ज्ञानवर्धन हो रहा है। दो दिनों के प्रवास के दौरान विभिन्न क्षेत्रों के अनेक प्रतिनिधियों का आपसी परिचय और अध्ययन से मिली जानकारी का दायरा बढ़ने से गांव का विकास बेहतर तरीके से हो सकेगा। यहां की यादें अपने साथ लेकर जनप्रतिनिधि भले ही लौट जाएंगे, लेकिन हमर छत्तीसगढ़ योजना में मिले अनुभव एवं नया रायपुर के अभूतपूर्व विकास की झांकी हमेशा उन्हें विकास के पथ पर बढ़ने के लिए प्रेरित करती रहेगी। बलौदाबाजार - भाटापारा जिले, पंचायत प्रतिनिधि विकास की झलकियों को देखते, करीब से महसूस करते हुए |

11 - 12 अक्टूबर 2017, पंचायत प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात ...

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण पर आए राजनांदगांव, बलौदाबाजार-भाटापारा एवं कबीरधाम जिले के पंच-सरपंच सिविल लाईन स्थित मुख्यमंत्री निवास पहुंचे। जहां उन्होंने मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह से मुलाकात की। इस अवसर पर राजनांदगांव के सांसद श्री अभिषेक सिंह, संसदीय सचिव श्री मोतीराम चंद्रवंशी एवं भाटापारा विधायक श्री शिवरतन शर्मा भी मौजूद रहे। योजना के नोडल अधिकारी श्री सुभाष मिश्रा ने प्रतिनिधियों को भ्रमण यात्रा की शुभकामनाएं देते हुए हमर छत्तीसगढ़ योजना के उद्देश्य के बारे में बताया। प्रतिनिधियों ने भी पुष्पगुच्छ से मुख्यमंत्री जी का स्वागत किया। कार्यक्रम के दौरान पर्यटन अधिकारी श्री अजय श्रीवास्तव, प्रभारी अधिकारी श्री दिनेश अग्रवाल, विकास विस्तार अधिकारी श्री जे. के. मिश्रा, श्री उदयराम कामड़े आदि अधिकारी भी उपस्थित रहे।

11 - 12 अक्टूबर 2017, समूह चर्चा – टैक्स से करें गाँव का विकास ...

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण पर आए बलौदाबाजार-भाटापारा, कबीरधाम एवं राजनांदगांव जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने समूह चर्चा कार्यक्रम में शामिल होकर अपने अनुभव साझा किए। करारोपण अधिकारी श्री राजेंद्र सिंह ठाकुर ने कर (टैक्स) के बारे में जानकारी दी. विकास विस्तार अधिकारी श्री जे. के. मिश्रा ने दीनदयाल ग्रामीण कौशल विकास योजना पर चर्चा की. श्री उदयराम कामड़े ने दो दिवसीय भ्रमण कार्यक्रम की जानकारी दी। इस दौरान करारोपण अधिकारी श्री चन्द्रशेखर शर्मा एवं सहायक विकास विस्तार अधिकारी श्री विजय साहू भी उपस्थित रहे.

11 - 12 अक्टूबर 2017, कबीरधाम जिले पंचायत प्रतिनिधियों ने देखा “हमर छत्तीसगढ़”

हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत् नया रायपुर में हुए विकास कार्यों को देखने पंचायत प्रतिनिधि पहुंचे हैं। अध्ययन यात्रा के दौरान इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय में खेती-किसानी, फसलों की उत्पादकता बढ़ाने, उपकरणों के उपयोग का तकनीकी ज्ञान, उच्च मूल्य वर्ग की संरक्षित फसलों के उत्पाद, पुरखौती मुक्तांगन में प्रदेश की लोक-संस्कृति को करीब से समझने, छत्तीसगढ़ विज्ञान केंद्र में देश-विदेश के अविष्कारों को देखने, मंत्रालय में प्रशासन के कामकाज से रूबरू होने, प्रदेश की सबसे बड़ी पंचायत छत्तीसगढ़ विधानसभा में संसदीय प्रणाली के बारे में जानने-समझने का मौका मिला है, इससे प्रतिनिधियों का ज्ञानवर्धन हो रहा है। दो दिनों के प्रवास के दौरान विभिन्न क्षेत्रों के अनेक प्रतिनिधियों का आपसी परिचय और अध्ययन से मिली जानकारी का दायरा बढ़ने से गांव का विकास बेहतर तरीके से हो सकेगा। यहां की यादें अपने साथ लेकर जनप्रतिनिधि भले ही लौट जाएंगे, लेकिन हमर छत्तीसगढ़ योजना में मिले अनुभव एवं नया रायपुर के अभूतपूर्व विकास की झांकी हमेशा उन्हें विकास के पथ पर बढ़ने के लिए प्रेरित करती रहेगी। कबीरधाम जिले, पंचायत प्रतिनिधि विकास की झलकियों को देखते, करीब से महसूस करते हुए |


Previous12345...6162Next