प्रेस रिलीज़

Date
Month
Year
District
Place
Photo Category



Previous12345...1314Next
विस अध्यक्ष से मुलाकात की पंच-सरपंचों ने

विस अध्यक्ष से मुलाकात की पंच-सरपंचों ने

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण पर आए बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के पंच-सरपंचों ने विधानसभा के कामकाज के बारे में जाना-समझा. यहाँ उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष श्री गौरीशंकर अग्रवाल से मुलाकात की. प्रेक्षा गृह के मंच से विधानसभा अध्यक्ष श्री गौरीशंकर अग्रवाल ने प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा कि आप सभी का छत्तीसगढ़ विधानसभा में स्वागत एवं अभिनंदन करता हूं. छत्तीसगढ़ का सबसे बड़ा पंचायत छत्तीसगढ़ विधानसभा को माना जाता है. प्रदेश में विकास कार्य हेतु कितनी-कितनी राशि खर्च करने हो यह सब बजट के माध्यम से विधानसभा सत्र के दौरान, पक्ष-विपक्ष की सहमति से बजट पारित किए जाते हैं. कई पंचायतों, निकायों से आवेदन आते हैं कि हमारे गांव में स्कूल नहीं है, पुल नहीं बना है, रोड नहीं है. इन सब के निर्माण के लिए बजट पेश किया जाता है. मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह जी ने हमर छत्तीसगढ़ योजना को आप लोगों के लिए ही बनाया है, ताकि आप लोग को नया रायपुर आकर छत्तीसगढ़ के विकास एवं प्रगति को देख-समझ सकें और उसी प्रकार अपने गांव का विकास एवं प्रगति करें.

विस अध्यक्ष एवं बेमेतरा विधायक से मिले पंच-सरपंच

विस अध्यक्ष एवं बेमेतरा विधायक से मिले पंच-सरपंच

‘हमर छत्तीसगढ़ योजना’ में प्रदेश की राजधानी और नया रायपुर भ्रमण पर आए बालोद एवं बेमेतरा जिलों के पंचायत प्रतिनिधियों ने विधानसभा अध्यक्ष श्री गौरीशंकर अग्रवाल एवं बेमेतरा विधायक श्री अवधेश चंदेल ने छत्तीसगढ़ विधानसभा में भेंट की. इस मौके पर उन्होंने सभी प्रतिनिधियों का प्रेक्षागृह में स्वागत-अभिनंदन किया तथा ‘हमर छत्तीसगढ़ योजना’ के तहत विधानसभा आने हेतु सादर बधाई दी| प्रतिनिधियों से उनकी पंचायतों के हालचाल पूछा कि उनके पंचायत क्षेत्रों में विकास योजनाओं का संचालन हो रहा है और उसकी प्रगति क्या है.विधानसभा के कामकाज, विधायकों के कर्त्तव्य, सत्र के संचालन, विधानसभा के गठन की संक्षिप्त जानकारी दी कि छत्तीसगढ़ निर्माण के बाद से सरकार इन 14 सालों में छत्तीसगढ़ के विकास में निरंतर कार्यरत है. छत्तीसगढ़ के विकास हेतु विभिन्न योजनाओं का प्रस्ताव विधानसभा में विभिन्न सदस्यों के द्वारा सर्वसम्मति से किया जाता है| विधायक श्री चंदेल ने सभी प्रतिनिधियों को अपने अपने क्षेत्र में योजनाओं के क्रियान्वयन में बेहतर कार्य करने के लिए कहा एवं प्रदेश के विकास में सहभागिता निभाने, पंचायत के विकास हेतु शुभकामनाएं दी। सांस्कृतिक संध्या कार्यक्रम में हुए शामिल ... देर शाम आवासीय परिसर में आयोजित सांस्कृतिक संध्या कार्यक्रम के दौरान बेमेतरा विधायक श्री चन्देल भी यहाँ पहुंचे. जहाँ उन्होंने प्रतिनिधियों के साथ बैठकर कार्यक्रम देखा. स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) द्वारा आयोजित प्रश्नोत्तरी कार्यक्रम में शामिल हुए पंच-सरपंचों को पुरस्कार प्रदान किया. लोक कला मंच रायपुर के श्री रामाधार जोशी एवं साथी कलाकारों ने छत्तीसगढ़ी गीतों की सुमधुर प्रस्तुति दी, जिसका सभी प्रतिनिधियों एवं विधायक ने भी लुत्फ़ उठाया.

नायब तहसीलदारों ने जाना-समझा हमर छत्तीसगढ़ योजना को

नायब तहसीलदारों ने जाना-समझा हमर छत्तीसगढ़ योजना को

छत्तीसगढ़ के विभिन्न जिलों में पदस्थ 52 नवनियुक्त नायब तहसीलदारों ने आज सवेरे यहां हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर का भ्रमण किया। इस दौरान उन्होंने योजना के तहत अध्ययन भ्रमण पर रायपुर आने वाले पंचायत प्रतिनिधियों के आवास, भोजन, प्रशिक्षण एवं प्रदेश के विकास के साथ ही कला और संस्कृति से रू-ब-रू कराने यहां नया रायपुर के उपरवारा स्थित आवासीय परिसर, होटल प्रबंधन संस्थान में की गई व्यवस्थाओं को देखा। राज्य सेवा परीक्षा से चयनित 2014 और 2015 बैच के यह नवनियुक्त नायब तहसीलदार छत्तीसगढ़ प्रशासन अकादमी निमोरा में आधारभूत प्रशिक्षण के लिए आए हुए हैं। नायब तहसीलदारों के दल ने आवासीय परिसर के होलोग्राफिक थियेटर में पंचायत प्रतिनिधियों के लिए तैयार मुख्यमंत्री का संदेश ‘रमन के बात, हमर मन के साथ’ देखा। उन्होंने यहां जनसंपर्क विभाग द्वारा लगाई गई विशाल छायाचित्र प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। उन्होंने आवासीय परिसर में संचालित पंच-सरपंचों का प्रशिक्षण सत्र भी देखा। हमर छत्तीसगढ़ योजना के अधिकारियों ने दल को योजना के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

प्रतिनिधियों को जागरूक होना जरुरी – श्रीमती सुनीति सत्यानंद राठिया  संसदीय सचिव से पंच-सरपंचों ने की मुलाकात

प्रतिनिधियों को जागरूक होना जरुरी – श्रीमती सुनीति सत्यानंद राठिया संसदीय सचिव से पंच-सरपंचों ने की मुलाकात

“हमर छत्तीसगढ’ योजना” के तहत् अध्ययन-भ्रमण पर आए रायगढ़ जिले के पंच-सरपंचों से मुलाकात करने संसदीय सचिव श्रीमती सुनीती सत्यानंद राठिया उपरवारा स्थित आवासीय परिसर पहुंची. जहाँ सहायक विकास विस्तार अधिकारी श्री विजय कुमार साहू एवं प्रबन्धन के अधिकारियो ने उनका स्वागत-सत्कार किया. वहीँ अपने क्षेत्र की महत्वपूर्ण जनप्रतिनिधि से भेंट कर पंच-सरपंच बेहद प्रसन्न हुए. अतिथि कक्ष में उन्होंने जनसंपर्क विभाग द्वारा प्रतिनिधियों को भेंट स्वरूप दी जाने वाली सामूहिक तस्वीर का अवलोकन किया और इस पहल की प्रशंसा की. आवासीय परिसर के लोकमंच से प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए संसदीय सचिव श्रीमती राठिया ने कहा कि छत्तीसगढ़ के बहुत से क्षेत्र के ऐसे लोग, जिन्होंने कभी नया रायपुर और राजधानी नहीं देखी है. उन्हें इस योजना के माध्यम से महत्वपूर्ण स्थलों का भ्रमण कराया जा रहा है. प्रतिनिधि यहां आकर बेहद खुश हैं, हमारे पंचायत प्रतिनिधि भ्रमण के दौरान एक दूसरे से परिचित होते हैं और पंचायत के विकास की चर्चा होती है. आपस में बातचीत से एक दूसरे के विचार जानकर सीख मिलती है. मैं प्रदेश के मुखिया डॉ. रमन सिंह जी को धन्यवाद देती हूं कि वह हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत समस्त क्षेत्र के लोगों को राजधानी भ्रमण कर रहे हैं. इससे हम विधायकों को भी अपने क्षेत्र के लिए बेहतर विकास कार्य करने की ललक पैदा होती है।

संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देना जरूरी – डॉ. रमन सिंह  मुख्यमंत्री से पंच-सरपंचों ने की मुलाकात

संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देना जरूरी – डॉ. रमन सिंह मुख्यमंत्री से पंच-सरपंचों ने की मुलाकात

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण पर आए दुर्ग, बालोद एवं बेमेतरा जिले के पंच-सरपंचों ने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से मुलाकात की. प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री जी का पुष्पगुच्छ से स्वागत किया. मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा कि हमर छत्तीसगढ़ योजना का मुख्य उद्देश्य सभी जनप्रतिनिधियों को ज्यादा से ज्यादा जागरूक बनाना है। विभिन्न माध्यमों के द्वारा चाहे वह प्रेजेंटेशन हो, फिल्म हो बुक हो, पंपलेट हो या प्रदर्शनी, इन सभी माध्यमों से केंद्र सरकार, राज्य सरकार की सभी लाभकारी योजनाओं का संपूर्ण ज्ञान उनके सामने उपलब्ध कराना है। ताकि वे विकास कार्यों को अपने ग्राम पंचायत स्तर पर पूरा कर सकें. दो लाख जनप्रतिनिधियों को योजना में जोड़ा है। उनमें से अभी तक करीब एक लाख जनप्रतिनिधि इस योजना में राजधानी भ्रमण पर आ चुके हैं। कार्ययोजना बनाना एवं संचालन के बारे में बताना केवल आपका पहला पायदान है. इसके पश्चात आप अच्छा कार्य कर के कुछ बेहतर कर सकते हैं. प्रदेश के 90 विधायकों में से ज्यादातर पहले पंच, सरपंच या पार्षद रह चुके हैं। इस प्रकार आप भी बेहतर काम करके अपने बड़े पद पर पहुंच सकते हैं। हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 2019 तक खुले में शौचमुक्त देश बनाने का उद्देश्य रखा है, पर हम 2018 में अक्टूबर तक खुले में शौचमुक्त राज्य बनने की ओर अग्रसर हैं, यह आप सब के लिए गर्व की बात है। आप के कार्यकाल में ओडीएफ बड़ी उपलब्धि होग, इसके साथ ही संस्कृति को बचाएं, इसकी रक्षा करें. जल संकट से बचने के लिए जल संवर्धन उपाय है। अब तक हमारे राज्य के 14 लाख परिवारों को उज्ज्वला योजना का लाभ प्राप्त हो चुका है। मुख्यमंत्री बनने से पहले मैं डॉक्टर था। मैं इस बात से भली भांति परिचित हूं कि एक गरीब परिवार अपने स्वास्थ्य एवं बीमारी के इलाज के लिए सक्षम नहीं होता. इसके लिए मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना का संचालन हमारे राज्य में किया जा रहा है। इसी प्रकार योजना बाल स्वास्थ्य योजनाओं का संचालन सफल रुप से किया जा रहा है। इच्छाशक्ति के साथ जनता की सेवा हम सभी में होनी चाहिए, तभी हमारा राज्य एक विकसित राज्य बन पाएगा। हमर छत्तीसगढ़ योजना आप सभी में आत्मविश्वास बढ़ाएगी, ऐसा मेरा मानना है। जिला दुर्ग के पाटन की जनपद अध्यक्ष श्रीमती हर्षा लोकमणि चंद्राकर ने छत्तीसगढ़ी में अपनी बात रखी. उन्होंने कहा कि हम अपने प्रदेश के मुखिया से मिलने आए हैं। अध्ययन-भ्रमण का यह सुअवसर सभी जनप्रतिनिधियों को मिलना लगभग असंभव था, पर इसे संभव किया हमारे मुख्यमंत्री जी ने। इस योजना के माध्यम से हमने अपने छत्तीसगढ़ को करीब से जाना है। छत्तीसगढ़ी भाषा में बात करें एवं इस पर गर्व करें। जिला दुर्ग से आई सरपंच श्रीमती सुनीता यादव ने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह जी से प्रत्यक्ष मिलने का सौभाग्य प्राप्त होने पर हर्ष जताते हुए मुख्यमंत्री जी को अन्नदाता के रुप में राज्य में विकास की गंगा बहाने हेतु धन्यवाद दिया। हमारी छत्तीसगढ़ की सरकार जन्म से मृत्यु तक अपनी जनता के साथ विभिन्न योजनाओं के माध्यम से जुड़ी हुई है। यहां सभी योजनाओं से जनता को लाभ प्राप्त होता है। कार्यक्रम में पूर्व विधायक श्री विजय बघेल भी उपस्थित थे। मंच संचालन पर्यटन अधिकारी श्री अजय श्रीवास्तव एवं विकास विस्तार अधिकार श्री जे. के. मिश्रा ने किया।

संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देना जरूरी – डॉ. रमन सिंह

संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देना जरूरी – डॉ. रमन सिंह

मुख्यमंत्री से पंच-सरपंचों ने की मुलाकात हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण पर आए कबीरधाम, राजनांदगांव एवं बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के पंच-सरपंचों ने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से मुलाकात की. प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री जी का पुष्पगुच्छ से स्वागत किया. मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने सभी जिले के जनप्रतिनिधियों को बोनस तिहार की बधाई देते हुए कहा कि हमारे छत्तीसगढ़ में 27 जिले हैं और 10 हजार 968 ग्राम पंचायतें है. इन पंचायतों के ज्यादातर प्रतिनिधियों ने राजधानी और नया रायपुर को नहीं देखा था. ऐसे बहुत सारे जनप्रतिनिधि हैं, जो पहले बार रायपुर आए हैं. मेरी इच्छा दो लाख पंच-सरपंचों से मिलने की थी, लेकिन ऐसा संभव नहीं हो रहा था. अगर मैं 1 दिन में 4 पंचायतें भी जाता, तो 5000 दिन लग जाते आप सभी से मिलने के लिए. एक साथ दो लाख लोगों को भी यहाँ बुलाना संभव नहीं था. इसलिए हमर छत्तीसगढ़ योजना के माध्यम से आप सभी को राजधानी भ्रमण के साथ-साथ विकास कार्यों की जानकारी मिल सके, ऐसा इंतजाम किया है. विधानसभा की कार्यवाही, मंत्रालय का कामकाज, जंगल सफारी, कृषि विश्वविद्यालय, क्रिकेट स्टेडियम इन सबके बारे में आप लोगों को जानकारी दी जा रही है. यह आप सब की मेहनत का फल है और आप सभी को पूरी जिम्मेदारी से अपना कर्तव्य का पालन करना है. मुख्यमंत्री जी ने आगे कहा कि प्रधानमंत्री जी ने उज्ज्वला योजना का निर्माण किया. उज्ज्वला योजना में प्रदेश की 14 लाख महिलाओं को गैस सिलेंडर और चूल्हा दिया गया है. आप लोगों के कारण यह संभव हो पाया है. पंच-सरपंच की जिम्मेदारी है कि गांव में पानी, सड़क, बिजली आदि समस्याओं को देखें और सभी को समस्याओं का समाधान करें. स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए महतारी एक्सप्रेस जैसी नि:शुल्क सेवा संचालित कर रहे हैं, जिससे महिलाओं की मृत्यु दर कम हो सके और जच्चा-बच्चा सब सुरक्षित रहें. यह आप लोगों का कर्तव्य है कि हमेशा संस्थागत प्रसव को बढ़ावा दें. योजना के नोडल अधिकारी श्री सुभाष मिश्रा ने प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए हमर छत्तीसगढ़ योजना के उद्देश्य पर प्रकाश डाला. इस मौके पर पर्यटन अधिकारी श्री अजय श्रीवास्तव,प्रभारी अधिकारी श्री दिनेश अग्रवाल, विकास विस्तार अधिकारी श्री जे. के मिश्रा, सहायक विकास विस्तार अधिकारी श्री उदयराम कामड़े उपस्थित थे.

संसदीय सचिव एवं सराईपाली विधायक से पंच-सरपंचों ने की मुलाकात

संसदीय सचिव एवं सराईपाली विधायक से पंच-सरपंचों ने की मुलाकात

विधानसभा की कार्यप्रणाली से हुए अवगत “हमर छत्तीसगढ’ योजना” के तहत् अध्ययन-भ्रमण के दौरान गरियाबंद एवं महासमुंद जिले के पंच-सरपंच छत्तीसगढ़ विधानसभा पहुंचे। जहाँ उन्होंने संसदीय सचिव श्री गोवर्धन मांझी एवं सराईपाली विधायक श्री रामलाल चौहान से मुलाकात की. डॉ. श्यामाप्रसाद मुकर्जी प्रेक्षा गृह में प्रतिनिधियों का स्वागत करते हुए संसदीय सचिव श्री गोवर्धन मांझी एवं सराईपाली विधायक रामलाल चौहान ने भ्रमण पर आने की बधाई दी। अनुवाद अधिकारी, लोकलेखा ध्यान आकर्षण शाखा श्री सुरेंद्र बाथम ने जानकारी देते हुए बताया कि विधानसभा प्रदेश की सबसे बड़ी पंचायत या सर्वोच्च प्रजातांत्रिक संस्था है। पंचायत प्रतिनिधियों को विधानसभा के काम-काज, सदन की बैठकों आदि के बारे में जानकारी दी। उन्होंने सदन के संचालन, प्रक्रिया की भी जानकारी दी कि विधानसभा में निर्वाचित जन-प्रतिनिधि कानून बनाने के साथ-साथ राज्य सरकार के बजट की भी मंजूरी देते हैं। कार्यपालिका की जिम्मेदारी सुनिश्चित करने का कार्य भी विधानसभा के द्वारा किया जाता है। छत्तीसगढ़ की विधानसभा में लोकतंत्र की सर्वश्रेष्ठ परम्पराओं का पालन होता है। यहां पक्ष और विपक्ष के सदस्य विभिन्न विषयों पर खुली चर्चा करते हैं और सभी सदस्यों का आचरण पूरी तरह मर्यादित होता है। पंचायत प्रतिनिधियों को भी विधानसभा की तरह अपनी पंचायतों में लोकतंत्र की उच्च परम्पराओं का पालन करना चाहिए। विधायक श्री चौहान ने प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा कि राज्य शासन की इस महत्वपूर्ण योजना में आप सभी को बहुत कुछ जानने-समझने को मिला है. गाँव के विकास में अपनी बेहतर भूमिका निभाएं और जनता के लिए संचालित योजनाओं का लाभ पात्र लोगों को दिलाएं. यह आप सभी की जिम्मेदारी है. प्रतिनिधियों ने सदन के भीतर की बैठक व्यवस्था और दर्शक दीर्घा सहित परिसर में सेन्ट्रल हॉल, समिति कक्ष और प्रेक्षागृह का भ्रमण किया।

मुख्यमंत्री से मुलाकात

मुख्यमंत्री से मुलाकात

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण पर आए रायपुर, गरियाबंद, महासमुंद एवं धमतरी जिले के पंचायत प्रतिनिधियों से मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से मुलाकात की, राज्य के विकास और योजनाओं पर मुख्यमंत्री का सारगर्भित उद्बोधन सुना और पंचायतों में बेहतर कार्य करने के लिए प्रेरित हुए। इस मौके पर केन्द्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री श्रीमती अनुप्रिया पटेल, सराईपाली के विधायक श्री रामलाल चौहान, नगरी सिहावा विधायक श्री श्रवण मरकाम भी मौजूद रहे. प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री एवं सभी अतिथियों का स्वागत-अभिनन्दन किया. मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने उन्हें सम्बोधित करते हुए बताया कि हमर छत्तीसगढ़ योजना से सरकार की विभिन्न प्रकार की योजनाओं को बताने का प्रयास किया जा रहा है, आप सभी यहां आकर विभिन्न योजनाओं का अध्ययन कर सकें. इस योजना में बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो आज तक राजधानी नहीं आए हैं. छत्तीसगढ़ का विकास कितना हुआ है, ये जानते ही नहीं थे, किंतु इस योजना से यह संभव हुआ है. आप सभी लोग यहां आकर अच्छा महसूस कर रहे होंगे। आप सभी के लिए दो दिवसीय भ्रमण में खाने और ठहरने की उत्तम व्यवस्था भी की गई है। 27 जिलों में फैला हमारा विशाल छत्तीसगढ़ के 1,36000 वर्ग किलोमीटर लगभग क्षेत्र में बसा है और बहुत से पंच-सरपंच अपने जिले से बाहर कभी निकले ही नहीं थे. मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह जी ने छत्तीसगढ़ी बोली और छत्तीसगढ़ का निवासी होने पर गर्व प्रकट किया, उन्होंने कहा कि हम इस राज्य के निवासी हैं हमें गर्व महसूस करना चाहिए। एक दिन मैंने सोचा कि हमारे गांवों में कोई 1 लाख 60 हजार के लगभग पंचायत प्रतिनिधि हैं’। मैं इन सभी जनप्रतिनिधियों से कैसे मिल सकता हूं. हमारे् सामने तीन उपाय थे, पहला यह कि सभी पंचायतों में जाकर एक-एक जनप्रतिनिधियों से मुलाकात, यह इतना जल्दी नहीं हो पाता. सभी पंचायतों तक जाने मे 5000 दिन लग जाते. इसलिए यह संभव नहीं था. दूसरा आप सभी प्रतिनिधियों को एक दिन बुलाते पर ऐसे में तो बहुत भीड़ हो जाती। तीसरा उपाय इस योजना का समाधान निकला. हमने सोचा कि हम ऐसी एक योजना लाएं, जिससे हम प्रतिनिधियों को छत्तीसगढ़ का विकास दिखा सकें, पिछले 16 माह से इस योजना का संचालन हो रहा है. बहुत सारे पंचायत प्रतिनिधियों ने छत्तीसगढ़ की राजधानी का भ्रमण किया है। विकास देखा नई विचार और सूझ विकसित हो रही है। यह मेरे लिए भी सौभाग्य की बात है कि आप सभी यहां आए हैं। कार्यक्रम के दौरान प्रभारी अधिकारी श्री दिनेश अग्रवाल, विकास विस्तार अधिकारी श्री जयंत मिश्रा, सहायक विकास विस्तार अधिकारी श्री विजय साहू आदि मौजूद रहे। प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री एवं अतिथियों के साथ सामूहिक तस्वीर भी खिंचाई.

अध्ययन, भ्रमण, मनोरंजन का अद्भुत संगम है हमर छत्तीसगढ़ योजना

अध्ययन, भ्रमण, मनोरंजन का अद्भुत संगम है हमर छत्तीसगढ़ योजना

बिलासपुर संभाग के पंच-सरपंचों ने देखा अभूतपूर्व विकास हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण पर आए बिलासपुर संभाग के पंच-सरपंचों ने राजधानी एवं नया रायपुर के विकसित स्थलों के बारे में जाना और महत्वपूर्ण योजनाओं से अवगत हुए. प्रदेश शासन की महत्वपूर्ण योजना हमर छत्तीसगढ़ में दो दिवसीय अध्ययन-भ्रमण यात्रा पर बिलासपुर जिले के 216, मुंगेली जिले के 175 और जांजगीर-चांपा जिले के 176 कुळ 567 पंचायत प्रतिनिधि आए हुए हैं. दो दिवसीय यात्रा के दौरान नया रायपुर स्थित नन्दन वन जंगल सफारी में दुर्लभ वन्यजीवों को स्वच्छन्द माहौल में विचरते देखा. खंडवा जलाशय में नौका विहार बेहद रोमांचक अनुभव रहा. नया रायपुर स्थित महानदी भवन मंत्रालय में प्रशासनिक कामकाज के बारे में जाना-समझा. छत्तीसगढ़ विधानसभा में संसदीय प्रणाली, सदन की व्यवस्था और सत्र संचालन के बारे में अधिकारियों ने जानकारी दी. शहीद वीर नारायण सिंह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम की उपलब्धि के बारे में जानकर वे बेहद गर्वित हुए. इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय में किसानों के लिए महत्वपूर्ण जानकारियां दी गई, प्राचीन कृषि संस्कृति की संग्रह प्रदर्शनी, पशुपालन के संबंध में जाना. इमर्सिव डोम थिएटर, छत्तीसगढ़ विज्ञान केंद्र का भ्रमण भी किया. इमर्सिव डोम थिएटर में फाइव-डी आधुनिक तकनीक के माध्यम से मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का संदेश देखा-सुना. सांस्कृतिक, मनोरंजक कार्यक्रम के माध्यम से प्रतिनिधियों को प्रदेश के विकास एवं लोक संस्कृति के महत्वपूर्ण तथ्यों से अवगत कराया गया. आवासीय परिसर में दोनों दिवस पर दोपहर को आयोजित समूह चर्चा कार्यक्रम में शामिल हुए और शासन की अनेक योजनाओं के संबंध में विषय विशेषज्ञों ने प्रतिनिधियों से बातचीत की. जहाँ प्रतिनिधियों ने भी अपने अनुभव साझा किए.

अपना दायित्व पूरा करें पंच-सरपंच, आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकेगा – डॉ. रमन सिंह

अपना दायित्व पूरा करें पंच-सरपंच, आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकेगा – डॉ. रमन सिंह

बिलासपुर संभाग के पंचायत प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण पर आए जांजगीर-चांपा, मुंगेली व बिलासपुर जिले के पंचायत प्रतिनिधियों से मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से मुलाकात की, राज्य के विकास और योजनाओं पर मुख्यमंत्री का सारगर्भित उद्बोधन सुना और पंचायतों में बेहतर कार्य करने के लिए प्रेरित हुए। इस मौके पर सक्ती क्षेत्र के विधायक डॉ. खिलावन साहू भी मौजूद रहे. प्रतिनिधियों से मुख्यमंत्री जी ने उनका हालचाल पूछा कि हमर छत्तीसगढ़ योजना से सभी लोग खुश हैं न। सभी ने बेहद उत्साह के साथ हामी भरी। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने उन्हें सम्बोधित करते हुए बताया कि छत्तीसगढ़ की राजधानी में हमर छत्तीसगढ़ योजना से सरकार की विभिन्न प्रकार की योजनाओं को बताने का प्रयास किया जा रहा है, आप सभी यहां आकर विभिन्न योजनाओं का अध्ययन कर सकें. इस योजना में बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो आज तक राजधानी नहीं आए हैं. छत्तीसगढ़ का विकास कितना हुआ है, ये जानते ही नहीं थे, किंतु इस योजना से यह संभव हुआ है. आप सभी लोग यहां आकर अच्छा महसूस कर रहे होंगे। आप सभी के लिए दो दिवसीय भ्रमण में खाने और ठहरने की उत्तम व्यवस्था भी की गई है। 27 जिलों में फैला हमारा विशाल छत्तीसगढ़ के 1,36000 वर्ग किलोमीटर लगभग क्षेत्र में बसा है और बहुत से पंच-सरपंच अपने जिले से बाहर कभी निकले ही नहीं थे. मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह जी ने छत्तीसगढ़ी बोली और छत्तीसगढ़ का निवासी होने पर गर्व प्रकट किया, उन्होंने कहा कि हम इस राज्य के निवासी हैं हमें गर्व महसूस करना चाहिए। एक दिन मैंने सोचा कि हमारे गांवों में कोई 1 लाख 60 हजार के लगभग पंचायत प्रतिनिधि हैं’। मैं इन सभी जनप्रतिनिधियों से कैसे मिल सकता हूं. हमारे् सामने तीन उपाय थे, पहला यह कि सभी पंचायतों में जाकर एक-एक जनप्रतिनिधियों से मुलाकात, यह इतना जल्दी नहीं हो पाता. सभी पंचायतों तक जाने मे 5000 दिन लग जाते. इसलिए यह संभव नहीं था. दूसरा आप सभी प्रतिनिधियों को एक दिन बुलाते पर ऐसे में तो बहुत भीड़ हो जाती। तीसरा उपाय इस योजना का समाधान निकला. हमने सोचा कि हम ऐसी एक योजना लाएं, जिससे हम प्रतिनिधियों को छत्तीसगढ़ का विकास दिखा सकें, पिछले 16 माह से इस योजना का संचालन हो रहा है. बहुत सारे पंचायत प्रतिनिधियों ने छत्तीसगढ़ की राजधानी का भ्रमण किया है। विकास देखा नई विचार और सूझ विकसित हो रही है। यह मेरे लिए भी सौभाग्य की बात है कि आप सभी यहां आए हैं। मुख्यमंत्री जी ने आगे कहा कि हमारे छत्तीसगढ़ में लगभग 90 विधानसभा क्षेत्र हैं और लगभग 45 विधानसभा क्षेत्र के विधायक पंच रह चुके हैं. आप अपने दायित्वों का निर्वाह करते रहें, आप सभी मेहनत करें, निश्चित ही एक दिन बड़े पद पर पहुंचेंगे और आपके महत्व को लोग समझेंगे। पंचायत प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए सक्ती विधायक डॉ. साहू ने कहा कि सरकार की योजनाओं के साथ ही प्रदेश के इतिहास एवं संस्कृति को भी जानना जरूरी है। इससे हम अपने पंचायत एवं क्षेत्र में बेहतर काम कर पाएंगे। उन्होंने उम्मीद जताई कि रायपुर और नया रायपुर के भ्रमण से आप लोगों का ज्ञानवर्धन होगा। साथ ही शासन-प्रशासन के कार्यों की समझ भी बढ़ेगी। प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री एवं विधायक के साथ सामूहिक तस्वीर भी खिंचाई.

मुख्यमंत्री से मुलाकात

मुख्यमंत्री से मुलाकात

राजधानी और नया रायपुर के विकास से हुए रूबरू

राजधानी और नया रायपुर के विकास से हुए रूबरू

अध्ययन, भ्रमण, मनोरंजन का अद्भुत संगम हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण पर आए सरगुजा संभाग के पंच-सरपंचों ने राजधानी एवं नया रायपुर के विकसित स्थलों के बारे में जाना और महत्वपूर्ण योजनाओं से अवगत हुए. राज्योत्सव के उद्घाटन समारोह में उन्हें शामिल होने का अवसर मिला. प्रदेश शासन की महत्वपूर्ण योजना हमर छत्तीसगढ़ में दो दिवसीय अध्ययन-भ्रमण यात्रा पर सरगुजा जिले के 154, जशपुर जिले के 140, सूरजपुर जिले के 164 और बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के 132 कुळ 590 पंचायत प्रतिनिधि आए हुए हैं. दो दिवसीय यात्रा के दौरान उन्होंने धार्मिक नगरी चम्पारण्य के धार्मिक स्थलों का दर्शन किया एवं गौशाला में गौ-पालन के प्रबन्धन से रूबरू हुए. नन्दन वन जंगल सफारी में उन्होंने बैटरीचलित वाहन में सैर का आनन्द लिया, वहीं दुर्लभ वन्यजीवों को स्वच्छन्द माहौल में विचरते देखा. खंडवा डैम में नौका विहार बेहद रोमांचक अनुभव रहा. नया रायपुर स्थित महानदी भवन मंत्रालय में प्रशासनिक कामकाज के बारे में जाना-समझा. छत्तीसगढ़ विधानसभा में संसदीय प्रणाली, सदन की व्यवस्था और सत्र संचालन के बारे में अधिकारियों ने जानकारी दी. शहीद वीर नारायण सिंह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम की उपलब्धि के बारे में जानकर वे बेहद गर्वित हुए. इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय में किसानों के लिए महत्वपूर्ण जानकारियां दी गई, प्राचीन कृषि संस्कृति की संग्रह प्रदर्शनी, पशुपालन के संबंध में जाना. इमर्सिव डोम थिएटर, छत्तीसगढ़ विज्ञान केंद्र का भ्रमण भी किया. राज्य शासन की विभिन्न योजनाओं के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी से अवगत हुए. इमर्सिव डोम थिएटर में फाइव-डी आधुनिक तकनीक के माध्यम से मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का संदेश देखा-सुना. भ्रमण के प्रथम दिवस पुरखौती मुक्तांगन में मुक्ताकाश मंच पर देर शाम लाईट एंड साउंड शो का आनन्द लिया, जहाँ कलाकारों ने ग्राम पंचायतों के प्रतिनिधियों की जिम्मेदारी पर आधारित नाट्य मंचन से उन्हें जागरूक किया. आवासीय परिसर में दोनों दिवस पर दोपहर को आयोजित समूह चर्चा कार्यक्रम में शामिल हुए और शासन की अनेक योजनाओं के संबंध में विषय विशेषज्ञों ने प्रतिनिधियों से बातचीत की. दूसरे दिवस की देर शाम आवासीय परिसर में सांस्कृतिक संध्या कार्यक्रम में प्रदेश की लोक-संस्कृति पर आधारित लोकगीत एवं नृत्य कार्यक्रम का लुत्फ़ उठाया.

प्रदेश के विकास में पंच-सरपंचों की भूमिका महत्वपूर्ण - श्री दयालदास बघेल

प्रदेश के विकास में पंच-सरपंचों की भूमिका महत्वपूर्ण - श्री दयालदास बघेल

सहकारिता मंत्री ने नवागढ़ के प्रतिनिधियों के साथ गुजारा दिन हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत छत्तीसगढ़ विधानसभा का अध्ययन-भ्रमण करने पहुंचे बेमेतरा जिले के नवागढ़ विधानसभा क्षेत्र से आए पंच-सरपंचों ने सहकारिता, संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री श्री दयालदास बघेल से मुलाकात की. मंत्री श्री बघेल ने अपने क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों से हालचाल पूछा और उन्हें भ्रमण पर आने की शुभकामनाएँ भी दी. मंत्री श्री बघेल ने उन्हें संबोधित करते हुए कहा कि आप लोगों ने ही मुझे चुनकर यहां तक पहुंचाया है, ताकि मैं अपने दायित्व का निर्वाह कर सकूं. मुख्यमंत्री जी का भी आभार व्यक्त करता हूं कि उन्होंने हमर छत्तीसगढ़ जैसी अच्छी योजना शुरू की. यहां जितने भी प्रतिनिधि आए हैं, उन्हें पंचायत एवं छत्तीसगढ़ शासन से जुड़े हुए विभिन्न कार्यों को देखने-समझने का अवसर प्राप्त होगा. जितने भी विकास कार्य हो रहे हैं, आप सभी उसके बारे में जानेंगे. ताकि जनहित की विभिन्न योजनाओं की जानकारी आप सभी को मिले और छत्तीसगढ़ शासन द्वारा किए जा रहे प्रयासों की कड़ी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएं. विधानसभा की कार्यवाही के बारे में बताते हुए श्री बघेल ने कहा कि साल में तीन विधानसभा सत्र होते हैं. इसमें बजट सत्र सबसे बड़ा होता है, विधानसभा अध्यक्ष, मुख्यमंत्री, नेता प्रतिपक्ष की मौजूदगी में सत्ता और विपक्ष के विधायक अपने-अपने प्रस्ताव रखते हैं और उस पर चर्चा होती है। प्रदेश में जितनी भी योजनाएं संचालित हैं, उन सभी योजनाओं को पहले विधानसभा में पारित किया जाता है। श्री बघेल ने आगे कहा कि आप सभी लोग जिम्मेदार प्रतिनिधि हैं, आपकी जिम्मेदारी बनती है। अपने पंचायत का विकास करें. उन्होंने अपने राजनीतिक कार्यकाल के बारे में बताया कि 17 साल तक मैं भी सरपंच रहा और मैं अपना अनुभव आप सभी से साझा कर रहा हूं. आपको प्रतिनिधि चुना गया है, मुख्यतः जो सरपंच चुने गए हैं, वे योजनाओं का अच्छी तरह से क्रियान्वयन करें. निश्चित ही इसका अच्छा परिणाम मिलेगा। प्रेक्षा गृह में विधानसभा संचालक डॉ. सत्येंद्र तिवारी ने प्रतिनिधियों को यहाँ की व्यवस्थाओं से संबंधित जानकारी दी. मंत्री श्री बघेल ने प्रतिनिधियों के साथ दिन भर बिताया. हमर छत्तीसगढ़ आवासीय परिसर उपरवारा में भी उनके साथ बातचीत की एवं दोपहर भोज का आनन्द लिया. नया रायपुर स्थित जंगल सफारी में बैटरी कार एवं भ्रमण के लिए विभाग द्वारा उपलब्ध वाहन में सैर की.

विकास योजनाओं में पंचायत प्रतिनिधियों की सहभागिता जरूरी – श्री नरेंद्र सिंह तोमर

विकास योजनाओं में पंचायत प्रतिनिधियों की सहभागिता जरूरी – श्री नरेंद्र सिंह तोमर

केंद्रीय खनन मंत्री एवं पंचायत मंत्री पहुंचे उपरवारा, प्रतिनिधियों से की मुलाकात रायपुर, 26 अक्टूबर. हमर छत्तीसगढ़ योजना आवासीय परिसर पहुंचे भारत सरकार के पंचायत एवं ग्रामीण विकास व खनन मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर, प्रदेश के पंचायत, ग्रामीण विकास एवं स्वास्थ्य मंत्री श्री अजय चंद्राकर, सरायपाली के विधायक श्री रामलाल चौहान ने अध्ययन-भ्रमण पर आए प्रतिनिधियों से मुलाकात की. इस दौरान छत्तीसगढ़ शासन के अपर मुख्य सचिव श्री एम. के. राउत, पंचायत सचिव श्री पी. सी. मिश्रा एवं योजना के नोडल अधिकारी श्री सुभाष मिश्रा मौजूद रहे. अतिथियों के स्वागत-सत्कार के बाद उन्हें नोडल अधिकारी श्री मिश्रा ने जनसम्पर्क विभाग द्वारा लगाई गई फोटो प्रदर्शनी से अवगत कराया. अतिथियों ने 3-डी होलोग्राफिक थिएटर में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह जी का संदेश देखा-सुना. इस मौके पर केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर ने कहा कि पंचायती राज संस्थान समस्त प्रदेशों के लिए योजनाएं बनाता है और उसे लागू करता है. भारत सरकार के मंत्री गांव का विकास सुनिश्चित करते हैं। छत्तीसगढ़ में अपनी पहचान बनाते हुए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह जी आप सभी के जीवन के उन्नयन के लिए प्रयासरत हैं। इस कार्यक्रम के माध्यम से आप सभी प्रतिनिधियों से मिलकर बहुत खुशी हुई। श्री तोमर ने कहा कि हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी देश की उन्नति के लिए लगातार कोशिश कर रहे हैं, ताकि हमारा देश आगे बढ़े. पंच-सरपंच ग्राम विकास में अपनी भूमिका अच्छे से निभाएं. कौशल विकास योजना का बेहतर संचालन हो, ये हमारी कोशिश है, ताकि ज्यादा से ज्यादा युवाओं को कुशल बने और उन्हें रोजगार मिल सके। जो लक्ष्य जो सरकार ने तय किया है, उसमें कदम से कदम मिलाकर आप सभी चलें. प्रधानमन्त्री जी की ओर से मैं आप सभी को बहुत-बहुत धन्यवाद देता हूं. पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री चंद्राकर ने अपने उद्बोधन में कहा कि हमें भाईचारे की भावना को बढ़ाते हुए आगे चलना है, छत्तीसगढ़ को आगे बढ़ाना है. आप सभी हमर छत्तीसगढ़ योजना में आए हैं, एक दूसरे से भावनात्मक जुड़ाव महसूस कर रहे होंगे. आप सभी को तय करना है कि प्रदेश के विकास में आपकी क्या भूमिका है. यहां से जो कुछ देख-सीखकर जा रहे हैं, उसे अपने क्षेत्र में क्रियान्वित करें। चीजें समझना एवं भाईचारे का वातावरण बनाना बेहद जरूरी है. हमारा छत्तीसगढ़ आगे बढ़े, यह आप सभी के सहयोग से संभव है। कार्यक्रम के दौरान अतिथियों ने “हमर छत्तीसगढ़ योजना - अनुभव की साझेदारी” एवं कॉफी टेबल बुक का विमोचन किया। रायपुर, महासमुंद, धमतरी एवं गरियाबंद जिले की विभिन्न पंचायतों से आए पंच-सरपंच इस आयोजन में शामिल हुए. पंचायत प्रतिनिधियों श्रीमती केकती बाई सिदार, श्रीमती गौरीबाई, श्री तुलेश्वर ध्रुव एवं श्री त्रिलोचन श्रीमाली ने अतिथियों का स्वागत किया. श्री राधेलाल सिन्हा एवं श्री खेमलाल नायक ने अपने अनुभव साझा किए. आयोजन के दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रम छत्तीसगढ़ी लोककला मंच “मयारू मैना” के कलाकारों ने लोकगीत एवं आकर्षक नृत्य पेश किया। कार्यक्रम में व्यवस्था एवं संचालन के लिए हमर छत्तीसगढ़ योजना के पर्यटन अधिकारी श्री अजय श्रीवास्तव, प्रभारी अधिकारी श्री दिनेश अग्रवाल एवं अन्य अधिकारी-कर्मचारी जुटे रहे.

अब तक एक लाख निर्वाचित जनप्रतिनिधियों ने किया अध्ययन भ्रमण

अब तक एक लाख निर्वाचित जनप्रतिनिधियों ने किया अध्ययन भ्रमण

अध्ययन, सशक्तिकरण और शिक्षण-प्रशिक्षण की अनूठी योजना राज्य के विकास को जन-जन तक पहुंचाने एवं पंचायतों और सहकारी संस्थाओं के सशक्तिकरण के लिए शुरू की गई महत्वाकांक्षी योजना ‘हमर छत्तीसगढ़’ के तहत अब तक एक लाख जनप्रतिनिधि राजधानी के अध्ययन भ्रमण पर आ चुके हैं। अध्ययन प्रवास पर अभी आए बस्तर, कांकेर और कोंडागांव के 447 पंच-सरपंचों के साथ ही यह संख्या अब एक लाख का आंकड़ा पार कर गई है। पिछले साल 1 जुलाई 2016 को शुरू हुए ‘हमर छत्तीसगढ़’योजना” में अब तक एक लाख 346 निर्वाचित प्रतिनिधि अध्ययन यात्रा पर रायपुर पहुंचे हैं। इनमें ग्राम पंचायतों और नगर पंचायतों के 93 हजार 890 प्रतिनिधि तथा सहकारी संस्थाओं के छह हजार 456 प्रतिनिधि शामिल हैं। पिछले 15 महीनों में राज्य के सभी 27 जिलों और 146 विकासखंडों के पंचायत एवं सहकारिता प्रतिनिधि अध्ययन भ्रमण पर रायपुर पहुंचे हैं। अभी भ्रमण पर आए बस्तर संभाग के पंचायत प्रतिनिधियों में बस्तर जिले के 188, कोंडागांव के 171 एवं कांकेर जिले के 88 पंच-सरपंच शामिल हैं। दो वर्षों यानि 30 जून 2018 तक चलने वाली इस योजना में प्रदेश के लगभग दो लाख जनप्रतिनिधियों को रायपुर और नया रायपुर का अध्ययन भ्रमण कराने का लक्ष्य है। देश भर में चर्चित ‘हमर छत्तीसगढ़’ योजना को देखने केन्द्रीय मंत्री सहित कई राज्यों के मंत्री एवं वरिष्ठ अधिकारी आ चुके हैं। इनमें वर्तमान राष्ट्रपति और बिहार के तत्कालीन राज्यपाल श्री रामनाथ कोविंद, भारत सरकार के सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री श्री थावरचंद गहलोत तथा झारखंड विधानसभा के अध्यक्ष सहित राजस्थान, जम्मू-कश्मीर, उत्तरप्रदेश और हरियाणा के मंत्री शामिल हैं। गत वर्ष 1 नवम्बर को राज्योत्सव का शुभारंभ करने आए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने उस दौरान अध्ययन भ्रमण पर आए पंचायत प्रतिनिधियों से मुलाकात की थी। उन्होंने योजना को काफी सराहा भी था। भारत सरकार के पंचायतीराज एवं ग्रामीण विकास मंत्रालय सहित अनेक मंत्रालयों के अधिकारी भी योजना को जानने-समझने आवासीय परिसर पहुंचे हैं। गांवों और कस्बों के निर्वाचित जनप्रतिनिधियों के अध्ययन, सशक्तिकरण, शिक्षण-प्रशिक्षण और उनका अनुभव संसार समृद्ध करने के उद्देश्य से इस अनूठी योजना की शुरूआत 01 जुलाई 2016 को की गई थी। नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान को योजना के आवासीय परिसर के रूप में विकसित किया गया है। यहां पंचायत प्रतिनिधियों के पंजीयन, आवास, भोजन, शिक्षण-प्रशिक्षण और मनोरंजन की व्यवस्था है। योजना के अंतर्गत जनप्रतिनिधियों को छत्तीसगढ़ में पिछले डेढ़ दशक में हुए विकास कार्यों, कृषि और विज्ञान के क्षेत्र में हो रही नित नई प्रगति एवं प्रदेश की संस्कृति व कला सहित शासकीय योजनाओं के बारे में जानकारी दी जाती है। अध्ययन भ्रमण पर पहुंचने वाले एक लाख प्रतिनिधियों में बस्तर और सरगुजा जैसे सुदूर वनांचलों के जनप्रतिनिधि भी बड़ी संख्या में हैं जिन्हें इस योजना की बदौलत पहली बार राजधानी देखने का मौका मिला। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और मंत्रीगण पंचायत प्रतिनिधियों से अपने निवास पर मुलाकात करते हैं। इस दौरान पंच-सरपंच उनसे अपने अध्ययन भ्रमण के अनुभव भी साझा करते हैं। कई विधायक भी यहां अपने क्षेत्रों से आए जनप्रतिनिधियों से मिलते हैं। अध्ययन भ्रमण पर आने वाले पंचायत प्रतिनिधि अपने गांव की मिट्टी, पानी और वहां पाए जाने वाले विशेष प्रजाति का पौधा लेकर आते हैं। इसे वे नया रायपुर में लगाते हैं। इस तरह राजधानी नया रायपुर से प्रदेश का हर गांव जुड़ रहा है। दो दिनों के अध्ययन प्रवास के दौरान पंच-सरपंचों को जंगल सफारी, मंत्रालय, विधानसभा, इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, साइंस सेंटर, ऊर्जा पार्क, शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम, फाइव-डी इमर्सिव डोम, माना विमानतल एवं पुरखौती मुक्तांगन का भ्रमण कराया जाता है। पुरखौती मुक्तांगन में लाइट एंड साउंड शो के जरिए उन्हें छत्तीसगढ़ से जुड़े पौराणिक आख्यानों, इतिहास, पुरातत्व, संस्कृति, स्वतंत्रता आंदोलन में यहां के सेनानियों के योगदान तथा छत्तीसगढ़ के अलग राज्य बनने की कहानी के साथ ही प्रदेश की उपलब्धियों एवं योजनाओं की जानकारी दी जाती है। भ्रमण के साथ ही पंचायत प्रतिनिधियों के लिए आवासीय परिसर में प्रशिक्षण एवं सामूहिक चर्चा का आयोजन किया जाता है। इसमें वे विकास कार्यों और योजनाओं के क्रियान्वयन संबंधी अपने अनुभव साझा करते हैं। स्वच्छता एवं विधिक जागरूकता के लिए भी यहां नियमित कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। पंचायत प्रतिनिधियों के लिए आवासीय परिसर में विधिक सहायता क्लिनिक भी संचालित है जहां उन्हें निःशुल्क कानूनी परामर्श एवं सहायता दी जाती है। भ्रमण पर आने वाले पंचायत प्रतिनिधियों को योगाभ्यास भी कराया जाता है। योग प्रशिक्षक की देखरेख में वे विभिन्न आसनों का अभ्यास करते हैं। साथ ही उन्हें स्वस्थ और प्रसन्न रहने के गुर भी बताए जाते हैं।

पूर्व संसदीय सचिव ने देखा लाईट एंड साउंड शो

पूर्व संसदीय सचिव ने देखा लाईट एंड साउंड शो

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण पर आए बलरामपुर-रामानुजगंज, जशपुर, सरगुजा एवं सूरजपुर जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने देर शाम पुरखौती मुक्तांगन में लाईट एंड साउंड शो का आनन्द लिया. इस मौके पर पूर्व संसदीय सचिव श्री सिद्धनाथ पैकरा भी प्रतिनिधियों से मुलाकात करने पहुंचे और उनके साथ बैठकर कार्यक्रम देखा. छत्तीसगढ़ के इतिहास, अलग राज्य बनने के बाद छत्तीसगढ़ में हुए विकास, जनकल्याणकारी योजनाओं पर यह अद्भुत कार्यक्रम कलाकारों ने पेश किया. आस्था के पौराणिक प्रसंगों में शिव-सती कथा, श्रीराम का वन गमन, शबरी से भेंट और उनका उद्धार आदि का नाट्य मंचन किया. प्रदेश के बलिदानियों की गौरव गाथा, अंग्रेज शासकों के खिलाफ आन्दोलन में भूमिका निभाने वाले महापुरुषों के प्रसंगों को बेहतरीन अदाकारी के साथ प्रस्तुत किया. छत्तीसगढ़ी गीतों पर आकर्षक नृत्य पेश कर कलाकारों ने योजनाओं के महत्व को भी समझाया. इस अवसर पर पूर्व संसदीय सचिव श्री पैकरा ने मुक्ताकाश मंच से प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा कि मैं आप सभी पंचायत प्रतिनिधियों का स्वागत एवं अभिनंदन करते हुए दीपावली की हार्दिक बधाई देता हूं. आप लोग हमर छत्तीसगढ़ योजना में भ्रमण पर आए हैं. इस योजना का लक्ष्य है कि आप लोग को यहां आकर यहां की उन्नति और विकास को देखें, ताकि अपने गांव में जाकर इसी तरह अपने गांव की उन्नति कर सकें. लाइट एंड साउंड कार्यक्रम के माध्यम से सभी शासकीय योजनाओं की जानकारी दी गई है, जिसे आप लोग देखें, समझें एवं अपने गांव जाकर बताएं. आज यहां आकर मुझे आप लोगों से मिलकर बहुत अच्छा लग रहा है, ऐसा लग रहा है कि मैं अपने परिवार के बीच खड़ा हूं. आप सभी को पुन: शुभकामनाएँ.

पंच-सरपंचों के लिए सीखने-समझने की योजना है हमर छत्तीसगढ़ - डा. रमन सिंह

पंच-सरपंचों के लिए सीखने-समझने की योजना है हमर छत्तीसगढ़ - डा. रमन सिंह

पंचायत प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण पर आए राजनांदगांव, बलौदाबाजार-भाटापारा एवं कबीरधाम जिले के पंच-सरपंच गुरूवार की शाम सिविल लाईन स्थित मुख्यमंत्री निवास पहुंचे। जहां उन्होंने मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह से मुलाकात की। इस अवसर पर राजनांदगांव के सांसद श्री अभिषेक सिंह, संसदीय सचिव श्री मोतीराम चंद्रवंशी एवं भाटापारा विधायक श्री शिवरतन शर्मा भी मौजूद रहे। योजना के नोडल अधिकारी श्री सुभाष मिश्रा ने प्रतिनिधियों को भ्रमण यात्रा की शुभकामनाएं देते हुए हमर छत्तीसगढ़ योजना के उद्देश्य के बारे में बताया। प्रतिनिधियों ने भी पुष्पगुघ्द से मुख्यमंत्री जी का स्वागत किया। मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने प्रतिनिधियों का स्वागत अभिनंदन करते हुए कहा कि यह योजना क्यों बनाई गई, यह सवाल बार-बार मुझसे पूछे जाते हैं। मेरा यह जवाब रहता है कि आप सभी जनप्रतिनिधि की पूरी जनता जिसने मुझे अपनी मुख्यमंत्री स्वरूप स्वीकार किया है तथा मेरे साथ छत्तीसगढ़ के विकास को आगे बढ़ाने में सहभागिता निभा रहे हैं। ऐसे ग्रामीणों से मिलने तथा अपने मुख्यमंत्री से परिचित कराने हेतु यह योजना बनाई है। हमारे राज्य में 10600 से अधिक पंचायत में 20 हजार गांव हैं, ऐसे में मैं अपनी पूरी जनता से शायद ही कभी मिल पाता। इस महत्वपूर्ण योजना के माध्यम से आप निर्वाचित प्रतिनिधियों से मिल पा रहा हूं। छत्तीसगढ़ के विकास को आगे बढ़ाने के लिए आप जनप्रतिनिधियों को प्रशिक्षित किया जा रहा है। पंच-सरपंचों को विधानसभा, मंत्रालय जैसे महत्वपूर्ण स्थलों के कामकाज, क्रियाकलापों, छत्तीसगढ़ के महत्व से अवगत कराया जा रहा है। केंद्र सरकार भी हमें आगे बढ़ने के लिए प्रयासरत है। आज पूरे भारत में स्वच्छ भारत अभियान चल रहा है आप सभी का पूर्ण सहभागिता निभा रहे हैं। यह केवल सरकार का या आपका काम नहीं है। यह एक जरूरत है जो कि हमारी बहन-बेटियों को सम्मान दिला सकती है, हमें बीमार होने से बचा सकती है। अतः शौचालय का निर्माण 2018 तक पूरा कर के आप इतिहास रच सकते हैं। साथ ही उज्ज्वला योजना जैसी योजना लागू कर के बहू-बेटियों को धुँए से बचा रहे हैं। विधानसभा देखकर आप लोगों को लग रहा होगा कि हम भी विधायक बनें, यह संभव हो सकता है। हमारे विधानसभा क्षेत्र के कई विधायक, मंत्री पहले पंच-सरपंच रह चुके हैं और आज एक ऊंचे पद पर विराजमान हैं। आप सभी भी इसी प्रकार आगे बढ़ सकते हैं। इसके लिए आप अपने गांव का बेहतर से बेहतर विकास करें एवं लोगों के दिल में अपनी जगह बनाने ज्यादा से ज्यादा वृक्षारोपण कर पर्यावरण को बचाएं, वन्य प्राणियों को बचाएं। सभी को बोनस तिहार के माध्यम से बोनस प्रदान किया जा रहा है, जिसमें केंद्र सरकार का हमारे प्रधानमंत्री जी का पूर्ण सहयोग रहा है। इसके द्वारा आप की दीपावली बहुत खूबसूरत और अच्छी तरह मने। यही शुभकामनाएं। सांसद श्री अभिषेक सिंह ने भी उपस्थित सभी जनप्रतिनिधियों विधायकों पदाधिकारियों को दीपावाली की शुभकामनाएं देते हुए सभी का स्वागत अभिनंदन किया एवं सरकार की सराहना करते हुए कहा कि हमारी राज्य सरकार और केंद्र सरकार दोनों ही हमारे विकास के लिए बेहतर योजनाएं बना रहे हैं। चाहे वह हमर छत्तीसगढ़ योजना हो या फिर बोनस तिहार। किसानों को बोनस वितरण किया जा रहा है। पंचायतों में अच्छा विकास कार्य करें, जिससे आपकी पहचान एक बेहतर प्रतिनिधि के रूप में हो। भाटापारा विधायक श्री शिवरतन शर्मा ने कहा कि यह हमर छत्तीसगढ़ योजना एक बहुत ही सराहनीय योजना है। आज तक शायद ही किसी के दिमाग में ऐसी योजना आई होगी। मुख्यमंत्री जी की दूरदर्शी सोच और प्रदेश के विकास के लिए यह योजना चलाई जा रही है। छत्तीसगढ़ के अलावा देश के अन्य किसी राज्य में इस तरह की योजना नहीं चलाई गई है, जिसमें प्रतिनिधियों को इतना सम्मान मिल सके। उनके विकास एवं विस्तार के लिए प्रशिक्षण दिया जाए। आप सभी इस मुहिम में सम्मिलित होकर इन विकास कार्यों को, योजनाओं को जानकर उनका बेहतर लाभ ग्रामीणों को दिलाएं और छत्तीसगढ़ को आगे बढ़ाने में अपनी सहभागिता निभाएं। आप सभी को आगे बढ़ने की शुभकामनाएं। संसदीय सचिव श्री मोतीराम चंद्रवंशी ने कहा कि हमर छत्तीसगढ़ योजना मुख्यमंत्री जी की महत्वाकांक्षी योजना है, राजधानी एवं नया रायपुर के विकास से परिचित होने का अवसर मिला है। ग्रामीण प्रतिनिधियों को शहर आकर अपने कर्तव्यों का प्रशिक्षण प्राप्त हो, इतनी सारी जानकारियां प्राप्त हो, यही उद्देश्य है। कार्यक्रम के दौरान पर्यटन अधिकारी श्री अजय श्रीवास्तव, प्रभारी अधिकारी श्री दिनेश अग्रवाल, विकास विस्तार अधिकारी श्री जे. के. मिश्रा, श्री उदयराम कामड़े आदि अधिकारी भी उपस्थित रहे।

सहकारिता निरीक्षकों ने देखा हमर छत्तीसगढ़

सहकारिता निरीक्षकों ने देखा हमर छत्तीसगढ़

प्रशासनिक अकादमी में प्रशिक्षण पर आए सहकारिता निरीक्षक उपरवारा स्थित हमर छत्तीसगढ़ आवासीय परिसर पहुंचे, जहाँ प्रभारी अधिकारी श्री दिनेश अग्रवाल ने उन्हें योजना की विस्तृत जानकारी दी एवं परिसर में मौजूदा व्यवस्थाओं से रूबरू कराया. नया रायपुर स्थित प्रशासनिक अकादमी से 26 सहकारिता निरीक्षकों ने गुरुवार को हमर छत्तीसगढ़ योजना के बारे में जाना-समझा. परिसर के हाल में जनसम्पर्क विभाग द्वारा स्थापित हमर छत्तीसगढ़ के मॉडल का अवलोकन किया, जिसमें प्रदेश के ऐतिहासिक स्थलों, प्रमुख संस्थानों को दर्शाया गया है. वहीं राज्य शासन की योजनाओं को उल्लेखित करती फोटो प्रदर्शनी भी देखी. स्वच्छ भारत मिशन के तहत प्रदेश के किन क्षेत्रों को ओडीएफ घोषित किया गया है, इसके बारे में बोर्ड पर डिस्प्ले के माध्यम से श्री अग्रवाल ने जानकारी दी. थ्री-डी होलोग्राफिक थिएटर में रमन के बात-हमर मन के साथ कार्यक्रम देखा.

दुर्ग विधायक से मिले बिलासपुर जिले के प्रतिनिधि

दुर्ग विधायक से मिले बिलासपुर जिले के प्रतिनिधि

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण पर आए बिलासपुर जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने छत्तीसगढ़ विधानसभा में दुर्ग विधायक श्री अरुण वोरा से मुलाकात की. विधायक श्री वोरा ने उनसे चर्चा करते हुए क्षेत्र का हाल-चाल जाना. दो दिवसीय भ्रमण यात्रा पर आए बिलासपुर जिले की विभिन्न पंचायतों के प्रतिनिधियों ने प्रदेश की सर्वोच्च पंचायत विधानसभा में संसदीय प्रणाली के बारे में जाना-समझा. इस दौरान दुर्ग विधायक श्री वोरा भी विधानसभा पहुंचे. जहाँ प्रतिनिधियों ने उनसे भेंट की. सदन में विधायक श्री वोरा ने उन्हें सत्र के दौरान होने वाली कार्यवाही, प्रश्नकाल और जनता के हित में मुद्दे उठाने की प्रक्रिया के संबंध में जानकारी दी. अपने संबोधन में श्री वोरा जी ने बताया कि किसी भी प्रकार के विकास कार्य को करने के लिए हमें विधानसभा में पास हुए बजट पर ही निर्भर रहना पड़ता है। यहां बजट पास हुए बिना कोई भी निर्माण कार्य या विकास कार्य के लिए राशि की व्यवस्था नहीं की जा सकती। इस बात का आपको पता होना चाहिए, ताकि आप अपने क्षेत्र के विकास के लिए सही योजना का निर्माण कर सके। विधायक श्री वोरा से मिलकर प्रतिनिधि बेहद प्रसन्न हुए.

बिलासपुर संभाग के पंच-सरपंचों ने देखी राजधानी, नया रायपुर

बिलासपुर संभाग के पंच-सरपंचों ने देखी राजधानी, नया रायपुर

रायगढ़, कोरबा एवं कोरिया जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने राजधानी एवं नया रायपुर के विकसित स्थलों के बारे में जाना और महत्वपूर्ण योजनाओं से अवगत हुए. वे यहाँ हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण यात्रा में शामिल होने पहुंचे थे. राज्य शासन की महत्वपूर्ण योजना हमर छत्तीसगढ़ में दो दिवसीय अध्ययन-भ्रमण यात्रा पर रायगढ़ जिले के 165, बिलासपुर जिले के 222 और जांजगीर-चांपा जिले के 147 कुळ 534 प्रतिनिधि आए हैं. आवासीय परिसर में पंचायत प्रतिनिधियों के ठहरने एवं भोजन की व्यवस्था की गई है. उन्होंने नया रायपुर स्थित नन्दन वन जंगल सफारी, महानदी भवन मंत्रालय, छत्तीसगढ़ विधानसभा, शहीद वीर नारायण सिंह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम, इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय, इमर्सिव डोम थिएटर, छत्तीसगढ़ विज्ञान केंद्र देखा. राज्य शासन की विभिन्न योजनाओं के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी से अवगत हुए. इमर्सिव डोम थिएटर में फाइव-डी आधुनिक तकनीक के माध्यम से मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का संदेश देखा-सुना. भ्रमण के प्रथम दिवस पुरखौती मुक्तांगन में देर शाम लाईट एंड साउंड शो का आनन्द लिया, जहाँ कलाकारों ने ग्राम पंचायतों के प्रतिनिधियों की जिम्मेदारी पर आधारित नाट्य मंचन से उन्हें जागरूक किया. आवासीय परिसर में दोनों दिवस पर दोपहर को आयोजित समूह चर्चा कार्यक्रम में शामिल हुए एवं देर शाम सांस्कृतिक संध्या कार्यक्रम में प्रदेश की लोक-संस्कृति पर आधारित लोकगीत एवं नृत्य कार्यक्रम का लुत्फ़ उठाया.

सारंगढ़ विधायक श्रीमती केराबाई मनहर ने पंच-सरपंचों के साथ देखा  ककसार नृत्य और पंडवानी

सारंगढ़ विधायक श्रीमती केराबाई मनहर ने पंच-सरपंचों के साथ देखा ककसार नृत्य और पंडवानी

सारंगढ़ की विधायक श्रीमती केराबाई मनहर ने हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर नया रायपुर स्थित होटल प्रबंधन संस्थान में पंचायत प्रतिनिधियों के साथ बैठकर ककसार नृत्य एवं पंडवानी का आनंद लिया। वे यहां हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत दो दिनों के अध्ययन भ्रमण पर आए रायगढ़, कोरिया और कोरबा जिले के पंच-सरपंचों से मिलने पहुंची थी। तीनों जिलों से 502 पंचायत प्रतिनिधि अध्ययन प्रवास पर रायपुर आए थे। इनमें रायगढ़ के 204, कोरिया के 150 एवं कोरबा के 148 जनप्रतिनिधि शामिल थे। सारंगढ़ की विधायक श्रीमती केराबाई मनहर ने आवासीय परिसर में स्वच्छ भारत मिशन प्रश्नोत्तरी के विजेता पंच-सरपंचों को पुरस्कार वितरित किए। उन्होंने तीनों जिलों के निर्वाचित प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए सरकार की अनेक योजनाओं के बारे में बताया। आवासीय परिसर में पंचायत प्रतिनिधियों के लिए आयोजित होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रमों की कड़ी में कल शाम श्रीमती कुंती गंधर्व ने पंडवानी की प्रस्तुति दी। वहीं कोंडागाव के गौरम्मार ककसार दल के कलाकारों ने श्री पंखुराम सोढ़ी के नेतृत्व में ककसार नृत्य पेश किया।

पंचायत प्रतिनिधियों को विधिक सहायता  एवं शासकीय योजनाओं की दी गई जानकारी

पंचायत प्रतिनिधियों को विधिक सहायता एवं शासकीय योजनाओं की दी गई जानकारी

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन भ्रमण पर आए रायगढ़, कोरबा एवं कोरिया जिले के पंचायत प्रतिनिधियों को सरकार की योजनाओं और विधिक सहायता की जानकारी दी गई। तीनों जिलों के विभिन्न पंचायतों से आए पंच-सरपंचों ने समूह चर्चा कर अपने-अपने गांवों में चल रहे विकास कार्यों को साझा किया। उन्होंने विभागीय अधिकारियों से सवाल-जवाब कर योजनाओं के क्रियान्वयन संबंधी अपनी शंकाओं का समाधान भी किया। योजना के आवासीय परिसर में संचालित विधिक सहायता क्लिनिक के अधिवक्ता श्री साहिर लुधियानवी खान ने पंचायत प्रतिनिधियों को सरकार द्वारा कमजोर तबकों को दी जा रही निःशुल्क विधिक सहायता के बारे में बताया। इसके तहत ग्रामीणों की मदद एवं विधिक जानकारी के लिए जनपद पंचायतों में विधिक सहायता केंद्रों की स्थापना की गई है। श्री खान ने बताया कि विधिक सहायता केन्द्रों के माध्यम से न्यायालय में पैरवी के लिए गरीबों को नि:शुल्क वकील उपलब्ध कराया जाता है। उन्होंने टोनही प्रताड़ना संबंधी कानून की जानकारी देते हुए कहा कि किसी महिला या पुरुष को प्रताड़ित करने पर दोषी को कारावास के साथ ही जुर्माने की सजा का प्रावधान है। इसके दोषी को जमानत भी नहीं दी जाती। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के विकास विस्तार अधिकारी श्री जयंत कुमार मिश्रा, सहायक विकास विस्तार अधिकारी श्री उदय राम कामड़े तथा सहायक आंतरिक लेखा एवं करारोपण अधिकारी श्री राजेन्द्र ठाकुर ने विभिन्न विभागीय योजनाओं की जानकारी दी।

सरगुजा के पंचायत प्रतिनिधियों ने देखा रायपुर और नया रायपुर  चार जिलों के 541 पंच-सरपंच आए हैं राजधानी के अध्ययन भ्रमण पर

सरगुजा के पंचायत प्रतिनिधियों ने देखा रायपुर और नया रायपुर चार जिलों के 541 पंच-सरपंच आए हैं राजधानी के अध्ययन भ्रमण पर

हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत दो दिनों के अध्ययन भ्रमण पर राजधानी रायपुर आए सरगुजा, बलरामपुर-रामानुजगंज, सूरजपुर और जशपुर के पंच-सरपंचों ने रायपुर एवं नया रायपुर के अनेक स्थानों का भ्रमण किया। चारों जिलों से 541 पंचायत प्रतिनिधि अध्ययन भ्रमण पर आए हुए हैं। इनमें बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के 147, सरगुजा के 145, जशपुर के 140 और सूरजपुर जिले के 109 पंच-सरपंच शामिल हैं। अध्ययन भ्रमण के दूसरे दिन आज पंच-सरपंचों ने छत्तीसगढ़ विधानसभा, इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, साइंस सेंटर, फाइव-डी इमर्सिव डोम देखा। पंचायत प्रतिनिधियों ने विधानसभा का सदन उस स्थान से देखा जहां मंत्री और विधायक बैठकर राज्य की नीतियों एवं दशा-दिशा पर चर्चा करते हैं। उन्हें कृषि विश्वविद्यालय में आधुनिक खेती, उन्नत बीज, उर्वरकों के उपयोग, मिट्टी परीक्षण एवं नवीन कृषि यंत्रों के बारे में जानकारी दी गई। पंच-सरपंच साइंस सेंटर में विज्ञान के विभिन्न चमत्कारों और अनुप्रयोगों से परिचित हुए। अध्ययन भ्रमण के पहले दिन कल पंचायत प्रतिनिधियों ने नया रायपुर में जंगल सफारी, मंत्रालय और शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का भ्रमण किया। जंगल सफारी में वन्य प्राणियों को खुले में विचरते देख वे खासे रोमांचित हुए। पंचायत प्रतिनिधियों ने मंत्रालय के विभिन्न ब्लॉकों का भ्रमण कर वहां की कार्यप्रणाली और शासन-प्रशासन के कार्यों को समझा। शाम को पुरखौती मुक्तांगन में लाइट एंड साउंड शो के जरिए उन्हें छत्तीसगढ़ से जुड़े पौराणिक आख्यानों, इतिहास, पुरातत्व, छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण की कहानी एवं अब तक के विकास के सफर के साथ ही शासन की अनेक योजनाओं की जानकारी दी गई। हमर छत्तीसगढ़ योजना के आवासीय परिसर नया रायपुर के उपरवारा के होटल प्रबंधन संस्थान में पंचायत प्रतिनिधियों के लिए दोनों दिन विभिन्न प्रशिक्षण सत्रों एवं सामूहिक चर्चा का आयोजन किया गया। इसमें पंचायत प्रतिनिधियों ने अपने गांवों में विकास योजनाओं के क्रियान्वयन के अनुभव एक-दूसरे से साझा किए। इस दौरान विभागीय अधिकारियों और विषय विशेषज्ञों ने राज्य शासन की योजनाओं के बारे में उन्हें विस्तार से जानकारी दी।

अध्ययन-भ्रमण और मनोरंजन की अद्भुत यात्रा

अध्ययन-भ्रमण और मनोरंजन की अद्भुत यात्रा

तीन जिलों के पंच-सरपंचों ने देखी राजधानी, नया रायपुर बलौदाबाजार-भाटापारा, राजनांदगाँव एवं कबीरधाम जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने राजधानी एवं नया रायपुर के विकसित स्थलों के बारे में जाना और महत्वपूर्ण योजनाओं से अवगत हुए. वे यहाँ हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण यात्रा में शामिल होने पहुंचे थे. राज्य शासन की महत्वपूर्ण योजना हमर छत्तीसगढ़ में बलौदाबाजार-भाटापारा से 89, राजनांदगाँव से 178 एवं कबीरधाम से 177 प्रतिनिधि दो दिवसीय अध्ययन-भ्रमण यात्रा पर आए हैं. पंचायत प्रतिनिधियों ने नया रायपुर स्थित नन्दन वन जंगल सफारी की सैर की, साथ ही खंडवा जलाशय में नौका विहार का आनन्द लिया. इसके अलावा महानदी भवन मंत्रालय, छत्तीसगढ़ विधानसभा, शहीद वीर नारायण सिंह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम, इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय, इमर्सिव डोम थिएटर छत्तीसगढ़ विज्ञान केंद्र देखा. राज्य शासन की विभिन्न योजनाओं के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी से अवगत हुए. इमर्सिव डोम थिएटर में फाइव-डी आधुनिक तकनीक के माध्यम से मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का संदेश देखा-सुना. भ्रमण के प्रथम दिवस पुरखौती मुक्तांगन में देर शाम लाईट एंड साउंड शो का आनन्द लिया, जहाँ कलाकारों ने ग्राम पंचायतों के प्रतिनिधियों की जिम्मेदारी पर आधारित नाट्य मंचन से उन्हें जागरूक किया. आवासीय परिसर में दोनों दिवस पर दोपहर को आयोजित समूह चर्चा कार्यक्रम में शामिल हुए एवं देर शाम सांस्कृतिक संध्या कार्यक्रम में प्रदेश की लोक-संस्कृति पर आधारित लोकगीत एवं नृत्य कार्यक्रम का लुत्फ़ उठाया.

अध्ययन-भ्रमण पर सहकारिता प्रतिनिधि

अध्ययन-भ्रमण पर सहकारिता प्रतिनिधि

हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन भ्रमण पर आए बिलासपुर संभाग के विभिन्न सहकारी संस्थाओं के करीब 550 प्रतिनिधियों ने उरला स्थित रायपुर दुग्ध महासंघ का संयंत्र देखा। उन्होंने यहां ‘देवभोग’ दूध की पैकेजिंग, तथा दूध से बनने वाले विभिन्न उत्पादों मठा, दही, सुगंधित दूध, श्रीखंड, पनीर एवं पेड़ा का निर्माण अपनी आंखों से देखा। दो दिवसीय अध्ययन प्रवास के दौरान इन लोगों ने नया रायपुर में जंगल सफारी, मंत्रालय और शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का भी भ्रमण किया। हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत सहकारिता प्रतिनिधियों को इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय एवं छत्तीसगढ़ विधानसभा भी घुमाया गया। कृषि विश्वविद्यालय में इन्हें जहां उन्नत खेती और आधुनिक कृषि यंत्रों की जानकारी दी गई, वहीं विधानसभा में वे संसदीय प्रणाली, सदन की कार्यवाही, बैठक व्यवस्था एवं विधानसभा के कार्यों से परिचित हुए। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से सहकारिता प्रतिनिधियों ने उनके निवास परिसर में सौजन्य मुलाकात भी की। हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत बिलासपुर संभाग के जांजगीर-चांपा जिले से 142, रायगढ़ से 124, बिलासपुर से 109, मुंगेली से 104 एवं कोरबा जिले से 62 सहकारिता प्रतिनिधि अध्ययन भ्रमण पर रायपुर आए हुए थे। योजना के आवासीय परिसर नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान में सहकारिता प्रतिनिधियों ने दोनों दिन रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आनंद लिया।

सहकारिता प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से की मुलाकात

सहकारिता प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से की मुलाकात

बिलासपुर, मुंगेली, कोरबा, रायगढ़ एवं जांजगीर-चांपा जिले के सहकारिता समिति के सदस्य ने सिविल लाइन स्थित मुख्यमंत्री निवास पहुंचे, जहाँ उन्होंने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से मुलाकात की. इस दौरान अपेक्स बैंक के चेयरमेन श्री अशोक बजाज, मार्कफेड के चेयरमेन श्री राधाकृष्ण गुप्ता, हमर छत्तीसगढ़ योजना के नोडल अधिकारी श्री सुभाष मिश्रा, प्रभारी अधिकारी श्री दिनेश अग्रवाल, विकास विस्तार अधिकारी श्री जे. के. मिश्रा उपस्थित थे. श्री मिश्रा ने प्रतिनिधियों को हमर छत्तीसगढ़ योजना अध्ययन-भ्रमण यात्रा की जानकारी दी एवं मुख्यमंत्री जी का स्वागत करने के लिए आमंत्रित किया. प्रतिनिधियों ने पुष्पगुच्छ से मुख्यमंत्री का अभिनन्दन किया. इस मौके पर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि हमर छत्तीसगढ़ योजना में पधारे सहकारिता समिति के सदस्यों का मुख्यमंत्री निवास में स्वागत है. हमर छत्तीसगढ़ योजना आप लोगों के लिए बनाई गई है. आप लोगों को शासकीय योजनाओं की जानकारी देने के लिए यहां बुलाया गया है. पंचायत प्रतिनिधियों के साथ-साथ गांव के विकास के बारे में सीखें, इस कारण पंचायत प्रतिनिधियों के साथ-साथ सहकारिता समिति के सदस्यों को भी यहां बुलाया गया है. आप लोग पूरे गांव की धान खरीदी, सोसाइटी से संबंधित सभी कार्य करते हैं. हम भी समितियों की व्यवस्थाओं को बढ़ाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं. हर पंचायत को खुले में शौच से मुक्त, स्वच्छ और आदर्श ग्राम के नाम से जाना जाए. 2 अक्टूबर तक पूरे छत्तीसगढ़ राज्य को खुले में शौच से मुक्त हो जाएगा. आप लोग अपने गांव में घर के आसपास हरे भरे वृक्ष लगाएं, ताकि चारों तरफ हरियाली बनी रहे और स्वास्थ्य ठीक रहे. हरियर छत्तीसगढ़ बनाना आप लोगों का कर्तव्य है. हमर छत्तीसगढ़ योजना की जानकारी, पुरखौती मुक्तांगन, जंगल सफारी, कृषि संग्रहालय इन सभी जगहों की जानकारी आप लोगों को प्राप्त हुई होगी. शासकीय योजनाओं की जानकारी जैसे कौशल विकास योजना, उज्ज्वला योजना, सरस्वती सायकल योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, बीमा योजना इन सभी की जानकारी देने के लिए आप सभी को हमर छत्तीसगढ़ योजना में बुलाया गया है. अपने-अपने क्षेत्र में बेहतर कार्य करें और छत्तीसगढ़ के विकास में सहभागिता निभाएं. श्री अशोक बजाज ने सहकारिता प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा कि सहकारिता समिति के सदस्यों का स्वागत एवं अभिनंदन करता हूं. यह योजना पंचायत प्रतिनिधियों के लिए ही बनाई गई थी, लेकिन बाद में सहकारिता समिति को शामिल किया गया, जिसके लिए मैं मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह जी को धन्यवाद देता हूँ. भारत में सबसे पहला स्थान पर सहकारिता में कार्यरत लोगों का होता है. आप लोग हमारे लिए सरकार के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण कड़ी हैं. सोसायटी का काम केवल खाद़ बांटना नहीं, अपितु धान खरीदी पर पूरे गांव का लेखा-जोखा करना होता है. दीवाली के पहले सभी समितियों में मेट्रो ATM लगाने का वादा करता हूं. छत्तीसगढ़ राज्य की उन्नति एवं विकास के लिए मुख्यमंत्री जी का योगदान सराहनीय है.

बेमेतरा विधायक श्री अवधेश सिंह चन्देल से मुलाकात

बेमेतरा विधायक श्री अवधेश सिंह चन्देल से मुलाकात

बेमेतरा जिले की विभिन्न पंचायतों से आए पंच-सरपंचों ने छत्तीसगढ़ विधानसभा में क्षेत्रीय विधायक श्री अवधेश सिंह चन्देल से मुलाकात की. श्री चन्देल ने उन्हें विधानसभा की कार्यप्रणाली से अवगत कराया और सदन के भीतर की व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी दी. अपने क्षेत्र के जनप्रतिनिधि से भेंट कर पंच-सरपंच बेहद प्रसन्न हुए. उन्होंने अध्ययन-भ्रमण के अनुभव भी विधायक से साझा किए.

अहिवारा विधायक से बालोद जिले के प्रतिनिधियों ने की मुलाकात

अहिवारा विधायक से बालोद जिले के प्रतिनिधियों ने की मुलाकात

छत्तीसगढ़ विधानसभा में बालोद जिले के पंचायत प्रतिनिधियों से मुलाकात करने हेतु अहिवारा विधानसभा क्षेत्र के विधायक राजमहंत श्री सांवलाराम डाहरे सभागृह पहुंचे। जहाँ विधायक श्री डाहरे ने कहा कि प्रदेश की महत्वपूर्ण योजना हमर छत्तीसगढ़ का हिस्सा बने सभी पंच-सरपंचों का अभिनन्दन करता हूँ. आप सभी को राजधानी एवं नया रायपुर भ्रमण का अवसर प्राप्त हो रहा है. यहाँ आपको अधिकारियों ने जानकारी दी है कि विधानसभा के सदस्य कैसे कार्य करते हैं, सदन में कार्रवाई कैसे होती है, राज्य के लिए कानून, विकास योजनाएं कैसे प्रस्तावित एवं पारित किए जाते हैं. बजट सत्र में सड़क, बिजली एवं पानी समेत अन्य मुद्दों पर चर्चा होती है. आप सभी को खुशी होगी कि हमारे मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह जी ने किसानों के हितों को ध्यान में रखते हुए बोनस देने की घोषणा की है। आप सभी को हमर छत्तीसगढ़ योजना की बहुत-बहुत बधाई.

रायपुर संभाग के पंच-सरपंचों ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात

रायपुर संभाग के पंच-सरपंचों ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात

हमर छत्तीसगढ़ योजना में दो दिवसीय अध्ययन-भ्रमण यात्रा पर आए रायपुर संभाग के चार जिलों क्रमशः धमतरी, महासमुंद, गरियाबंद एवं रायपुर जिले की विभिन्न पंचायतों के पंच-सरपंच शनिवार को सिविल लाइन स्थित मुख्यमंत्री निवास पहुंचे, जहाँ उन्होंने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से भेंट की. इस दौरान पाठ्य पुस्तक निगम के अध्यक्ष श्री देवजी भाई पटेल, संसदीय सचिव श्रीमती रूपकुमारी चौधरी, सिहावा क्षेत्र के विधायक श्री श्रवण मरकाम, पूर्व विधायक श्रीमती पिंकी शिवराज शाह भी उपस्थित रहे. हमर छत्तीसगढ़ योजना के नोडल अधिकारी श्री सुभाष मिश्रा एवं पर्यटन अधिकारी श्री अजय श्रीवास्तव ने स्वागत करने के लिए पंचायत प्रतिनिधियों को आमंत्रित किया. पूर्व विधायक श्रीमती शाह समेत अन्य प्रतिनिधियों ने पुष्पगुच्छ से मुख्यमंत्री एवं अतिथियों का अभिनन्दन किया. नोडल अधिकारी श्री मिश्रा ने हमर छत्तीसगढ़ योजना के संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि करीब एक लाख प्रतिनिधि अध्ययन-भ्रमण पर आ चुके हैं. मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने पंच-सरपंचों को अध्ययन-भ्रमण पर आने की शुभकामनाएं दी एवं जनप्रतिनिधियों के महत्व और आवश्यकता को परिभाषित किया। अपने संबोधन में कहा कि प्रदेश के लगभग 20 हजार गांवों तक पहुंचने में कम से कम 5 हजार दिन लगते हैं। अगर इतने दिन समय निकालकर हर गाँव में आप लोगो तक आते, तो राज्य के विकास कार्यों के लिए, योजना निर्माण कैसे हो पाएगा? इससे बेहतर हमने सोचा कि पंच-सरपंच एवं अन्य जनप्रतिनिधि राजधानी और नया रायपुर का विकास देखें। इसलिए हमर छत्तीसगढ़ योजना चलाई है. सबसे कठिन चुनाव, पंच का चुनाव होता है, जिसने पंच का चुनाव गरिमापूर्ण तरीके से जीत लिया, उसे आगे किसी भी चुनाव जीतने में ज्यादा परेशानी नहीं होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि 36 लाख परिवारों को उज्ज्वला योजना के द्वारा लाभांवित करने का लक्ष्य है। जिसमें 14 लाख लोगों को अभी तक इससे लाभ मिल चुका है। 11 लाख आवासों का निर्माण कर सभी बेघरों को घर प्रदान करना, हमारे महत्वपूर्ण विषय के अंतर्गत आता है। इसके पश्चात उन्होंने हरियर छत्तीसगढ़ बनाने योजना को जन-जन तक पहुंचाने का उद्देश्य बताया और कहा प्रत्येक व्यक्ति अपने आसपास पेड़ पौधे जरूर लगाएं, ताकि हमारी धरती प्राकृतिक नजारों से परिपूर्ण रहे, हमें अपनी मिट्टी और बोली पर गर्व करना चाहिए। आप जहां कहीं हो, छत्तीसगढ़ी में अवश्य बात करें। हमर छत्तीसगढ़ योजना द्वारा आप यहां दो दिवसीय दौरे पर आए हैं। यह आपके लिए किसी तीर्थाटन जैसा माहौल है, आप आराम से खा-पीकर विभिन्न स्थलों का भ्रमण कर रहे हैं। जहां हर किसी को पहुंच पाना संभव नहीं होता. इसके लिए आपको बधाई और स्वागत. सभी प्रतिनिधि मुझसे यही सवाल करते हैं, इस योजना के पश्चात जाने दुबारा आपसे मुलाकात कब होगी? इसका यह जवाब मुख्यमंत्री जी ने दिया कि जब आप दोबारा चुनकर आएंगे और हम भी, तब फिर मिलेंगे। मुख्यमंत्री एवं विधायकों से मुलाकात कर प्रतिनिधि बेहद प्रसन्न हुए. कार्यक्रम के समापन के बाद सभी ने सामूहिक तस्वीर भी खिंचवाई. आयोजन में हमर छत्तीसगढ़ योजना की प्रभारी अधिकारी सुश्री राधिका श्रीवास्तव एवं अन्य अधिकारी-कर्मचारी भी मौजूद रहे.

रायपुर संभाग के चार जिलों के पंच-सरपंच अध्ययन-भ्रमण पर

रायपुर संभाग के चार जिलों के पंच-सरपंच अध्ययन-भ्रमण पर

राजधानी एवं नया रायपुर के विकास से हुए रूबरू हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण पर आए धमतरी, गरियाबंद, रायपुर एवं महासमुंद जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने राजधानी एवं नया रायपुर के विकसित स्थलों के बारे में जाना और महत्वपूर्ण योजनाओं से अवगत हुए. भ्रमण के दौरान नगरी विधानसभा क्षेत्र की पूर्व विधायक श्रीमती पिंकी शिवराज शाह भी प्रतिनिधियों के साथ रहीं. राज्य शासन की महत्वपूर्ण योजना हमर छत्तीसगढ़ में दो दिवसीय अध्ययन-भ्रमण यात्रा पर आए रायपुर संभाग के चार जिलों के पंचायत प्रतिनिधियों ने नन्दन वन जंगल सफारी की सैर की, साथ ही खंडवा जलाशय में बोटिंग भी की. इसके अलावा मंत्रालय, छत्तीसगढ़ विधानसभा, शहीद वीर नारायण सिंह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम, इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय देखा और राज्य शासन की विभिन्न योजनाओं के बारे में जाना. इमर्सिव डोम थिएटर में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का संदेश फाइव-डी आधुनिक तकनीक के माध्यम से देखा-सुना. भ्रमण के प्रथम दिवस पुरखौती मुक्तांगन में देर शाम लाईट एंड साउंड शो का आनन्द लिया, जहाँ कलाकारों ने ग्राम पंचायतों के प्रतिनिधियों की जिम्मेदारी पर आधारित नाट्य मंचन से उन्हें जागरूक किया. वहीं दूसरे दिवस आवासीय परिसर में दोपहर को आयोजित समूह चर्चा कार्यक्रम में शामिल हुए एवं देर शाम सांस्कृतिक संध्या कार्यक्रम में प्रदेश की लोक-संस्कृति पर आधारित लोकगीत एवं नृत्य कार्यक्रम का लुत्फ़ उठाया.